Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

16 साल की सिंगर ने दी असम के 46 मौलानाओं को खुली चुनौती

Patrika news network Posted: 2017-03-15 12:08:10 IST Updated: 2017-03-15 12:08:10 IST
16 साल की सिंगर ने दी असम के 46 मौलानाओं को खुली चुनौती
  • असम में एक साथ 46 मौलानाओं ने 16 साल की एक होनदार सिंगर नाहिद आफरीन के खिलाफ फतवा जारी किया है।

गुवाहाटी।

असम में एक साथ 46 मौलानाओं ने 16 साल की एक होनदार सिंगर नाहिद आफरीन के खिलाफ फतवा जारी किया है। आफरीन साल 2015 में म्यूजिकल रियलिटी टीवी शो इंडियन आइडल जूनियर की फस्र्ट रनर अप रही थी। आफरीन के खिलाफ यह फतवा इसलिए जारी किया गया है ताकि उसे लोगों के  सामने गाना गाने से रोका जा सके। 

पुलिस अधिकारियों का कहना है कि नाहिद ने हाल ही में आतंकवाद जिसमें आईएस टेरर ग्रुप भी शामिल है के खिलाफ  कुछ गाने परफॉर्म किए थे। ऐसे में पुलिस मामले की जांच इस दृष्टिकोण से भी कर रही है कि कहीं यह फतवा इस बात की प्रतिक्रिया तो नहीं। एडीजी स्पेशल ब्रांच पल्लब भट्टाचार्य ने कहा,हम इस ऐंगल से भी मामले की जांच कर रहे हैं। मंगलवार को मध्य असम के होजई और नागांव जिलों में ऐसे कई पर्चे बांटे गए जिसमें असमिया भाषा में फतवा और फतवा जारी करने वाले मौलानाओं का नाम लिखा था।फतवे के मुताबिक 25 मार्च को असम के लंका इलाके के उदाली सोनई बीबी कॉलेज में 16 साल की नाहिद को परफॉर्म करना है जो पूरी तरह से शरीया के खिलाफ है। 

फतवे के मुताबिक म्यूजिकल नाइट जैसी चीजें पूरी तरह से शरीया के खिलाफ है। अगर इस तरह की चीजें मस्जिद,इदगाह,मदरसा और कब्रिस्तान के आसपास होने लगीं तो हमारी भविष्य की पीढ़ी को अल्लाह की नाराजगी झेलनी पड़ेगी। महज 16 साल की सिंगर नाहिद आफरीन 10 वीं क्लास की छात्रा है,जो बिस्वनाथ चारिअली इलाके में रहती है। फतवा की बात सुनते ही नाहिद रोने लगी। उसने कहा,मैं इस पर क्या कहूं। मैं पूरी तरह से अवाक हूं। मुझे लगता है कि मेरा संगीत अल्लाह का तोहफा है मेरे लिए। मैं इस तरह की धमकियों के आगे झुककर संगीत नहीं छोड़ूंगी। 

नाहिद की मां ने कहा,म्यूजिकल नाइट प्रोगम के आयोजकों ने हमसे कहा कि यह प्रोग्राम कैंसल नहीं होगा। पुलिस ने कहा कि नाहिद और उनके परिवार को पूरी सुरक्षा दी जाएगी। नाहिद ने साल 2016 में बॉलीवुड एक्ट्रेस सोनाक्षी सिन्हा की फिल्म अकीरा के लिए गाना गाया था। इससे पहले नाहिद ने वैष्णव संत श्रीमंत संकरदेव के लिखे और कंपोज किए गाने गाए थे जिसने नाहिद को असम में लोकप्रिय बनाया था।