सुन रहे हो माणिक सरकार, पैसे न होने पर इलाज के आभाव में दम तोड़ गया मासूम

Daily news network Posted: 2018-01-11 16:22:49 IST Updated: 2018-01-11 17:07:12 IST
  • उत्तरी त्रिपुरा के धलाई जिले के सीमावर्ती गांव गंडाचर्रा में गरीबी और स्वास्थ सुविधाओं की कमी के चलते दो महीने के बच्चे की दर्दनाक मौत हो गर्इ।

अगरतला।

उत्तरी त्रिपुरा के धलाई जिले के सीमावर्ती गांव गंडाचर्रा में गरीबी और स्वास्थ सुविधाओं की कमी के चलते दो महीने के बच्चे की दर्दनाक मौत हो गर्इ। बच्चे के पिता ललितमोहन त्रिपुरा ने बताया कि हमारा बच्चा रंजॉय मंगलवार की सुबह मां का दूध पीने के बाद उल्टी करने लगा। उसे तुरंत अस्पताल लेकर गए जहां से डॉक्टरों ने कहा कि बचचे को सब डीविलजन गंडाचर्रा के अस्पताल ले जाना पड़ेगा लेकिन इसके लिए अस्पताल में सरकारी एंबुलेंस मौजूद नहीं थी जिसके कारण वह उसे निजी वाहन पर लेकर अस्पताल गए।


ललितमोहन ने बताया कि गंडाचर्रा में डॉक्टर ने उससे पांच सौ रुपये से अधिक की दवाइयां खरीदवायीं और उसे अगरतला मेडिकल कॉलेज तथा अस्पताल में रेफर कर दिया। इस अस्पताल प्रशासन ने भी एंबुलेंस उपलब्ध नहीं करायी और वह निजी वाहन किराये पर लेने में सक्षम नही नहीं था। इस वजह से दोपहर बाद बच्चे की मौत हो गयी। स्थानीय लोगों ने बताया कि गरीब माता-पिता के पास बच्चे की लाश घर ले जाने के लिए भी पैसे नहीं थे। आखिर में कुछ स्थानीय लोगों ने उन लोगों की मदद की तब वे लोग रात में अपने घर लौट सके।