सुप्रीम कोर्ट के NRC फैसले का आसू ने किया स्वागत

Daily news network Posted: 2017-12-06 13:41:34 IST Updated: 2017-12-06 13:47:00 IST
सुप्रीम कोर्ट के NRC फैसले का आसू ने किया स्वागत
  • एनआरसी अपडेशन प्रक्रिया में पंचायती दस्तावेज आैर मूल निवासियों को लेकर मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट द्वारा आए फैसले का अखिल असम छात्र संघ (आसू) ने स्वागत किया है।

गुवाहाटी

एनआरसी अपडेशन प्रक्रिया में पंचायती दस्तावेज आैर मूल निवासियों को लेकर मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट द्वारा आए फैसले का अखिल असम छात्र संघ (आसू) ने स्वागत किया है। साथ ही यह उम्मीद भी जतार्इ है कि असमवासी आैर आसू जिस प्रकार अवैध बांग्लादेशी मुक्त एनआरसी चाहते है, सुप्रिम काेर्ट की देख रेख में चल रहे एनआरसी अपडेशन में वैसी ही एनआरसी बनार्इ जाएगी। 



आसू के अध्यक्ष दीपांक कुमार नाथ आैर लुरिनज्योति गोगाेर्इ का कहना है कि सुप्रीम कोर्ट ने समर्थन योग्य दस्तावेज आैर पंचायत दस्तावेजाें की दोबारा जांच के आदेश दिए है। इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने एनआरसी नवीनीकरण प्रक्रिया में शामिल होने के लिए पंचायती दस्तावेजों को मान्य करार दिया है। इससे पहले 22 नवंबर को सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि पंचायत की ओर से जारी निवासी होने का सर्टिफिकेट नागरिकता का दस्तावेज नहीं है।


आपको बता दें कि एनआरसी में नाम दर्ज करवाने के लिए 1951 की एनआरसी और 1971 से पहले की मतदाता सूची में आैर उससे पहले के 12 प्रकार के दस्तावेजों को मान्यता प्राप्त थी। अब पंचायती दस्तावेज को भी समर्थिक दस्तावेज बताया गया है। 

आसू का कहना है कि एनआरसी में कोर्इ भी विदेशी शामिल न हो सके इसके लिए कड़ी व्यवस्था बनार्इ जानी चाहिए।