असम में भाजपा को लगा झटका,एजीपी अपने दम पर लड़ेगी चुनाव

Daily news network Posted: 2017-05-17 17:40:27 IST Updated: 2017-05-17 17:40:27 IST
असम में भाजपा को लगा झटका,एजीपी अपने दम पर लड़ेगी चुनाव
  • असम गण परिषद ने भाजपा को तगड़ा झटका देते हुए अकेले कार्बी आंगलोंग ऑटोनोमस काउंसिल का चुनाव लडऩे की घोषणा की

गुवाहाटी।

असम की राजनीति में नया मोड़ आ गया है। असम गण परिषद ने भाजपा को तगड़ा झटका देते हुए अकेले कार्बी आंगलोंग ऑटोनोमस काउंसिल का चुनाव लडऩे की घोषणा की। असम गण परिषद ने बुधवार को इस संबंध में घोषणा की। चुनाव 12 जून को प्रस्तावित है। पार्टी के मुताबिक उम्मीदवारों की सूची गुरुवार को घोषित कर दी जाएगी। 



असम गण परिषद ने खुलासा किया कि पार्टी सभी 26 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। असम गण परिषद का यह फैसला भाजपा के लिए झटका माना जा रहा है। आपको बता दें कि चुनाव के लिए नामांकन की आखिरी तारीख 19 मई है। नामांकन पत्रों की जांच का काम 20 मई को होगा। नाम वापस लेने की आखिरी तारीख 22 मई है। मतों की गणना 17 जून को होगी। 




असम में भाजपा और असम गण परिषद का गठबंधन है। असम गण परिषद ने 2016 के असम विधानसभा चुनाव में 126 सीटों में से 14 सीटें जीती थी। असम गण परिषद का गठन असम समझौते के बाद हुआ था। इसके अध्यक्ष प्रफुल्ल कुमार महंत राज्य के मुख्यमंत्री भी रह चुके हैं। असम गण परिषद अखिल असम छात्र संघ के 6 साल लंबे बांग्लादेशी घुसपैठियों के खिलाफ चलाए गए असम आंदोलन की देन है। आंदोलन के चलते राजीव गांधी और अखिल असम छात्र संघ के बीच ऐतिहासिक असम समझौता हुआ था। 



असम गण परिषद 1985 से 1989 और 1996 से 2001 तक असम में दो बार सरकार बना चुकी है। पूर्व मुख्यमंत्री प्रफुल्ल कुमार महंता ने असोम गण परिषद (प्रोग्रोसिव) पार्टी बना ली लेकिन 14 अक्टूबर 2008 को गोलाघाट में फिर से दोनों गुट एक हो गए।