असम में शहीद हुआ वायुसेना का ऑफिसर, बाढ़ पीडि़तों को बचाने का था जिम्मा

Daily news network Posted: 2017-07-14 09:45:43 IST Updated: 2017-07-14 09:45:43 IST
असम में शहीद हुआ वायुसेना का ऑफिसर, बाढ़ पीडि़तों को बचाने का था जिम्मा
  • असम बाढ़ में फंसे लोगों को बचाने में भारतीय वायुसेना एक जांबाज ऑफिसर को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा

नई दिल्ली।

असम बाढ़ में फंसे लोगों को बचाने में भारतीय वायुसेना एक जांबाज ऑफिसर को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा। दरअसल आगरा के रहने वाले प्रमोद कुमार सेना के रेस्क्यू ऑपरेशन टीम में शामिल थे। इस दौरान हेलीकॉप्टर क्रेश हो जाने से आगरा का लाल शहीद हो गया। 


भारतीय वायुसेना का यह जांबाज ऑफिसर सेना के रेस्क्यू ऑपरेशन में शामिल था और अपने वरिष्ठ साथियों के साथ बाढ़ प्रभावित इलाकों से लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाने का कार्य कर रहा था। मंगलवार को जब तेजपुर बेस से बचाव दल ने उड़ान भरी तो अचानक हेलीकाप्टर का बेस से संपर्क टूट गया। संपर्क टूटने के बाद वायु सेना ने सर्च ऑपरेशन चलाया तो पता चला कि हेलीकॉप्टर क्रैश हो गया है।       


  

हेलीकॉप्टर क्रेश हो जाने से प्रमोद कुमार और उनका एक साथी शहीद हो गया। बेटे के शहीद होने की खबर जैसे ही परिजनों को मिली, पूरे परिवार में कोहराम मच गया। वहीं नालंदा टाउन में भी शोक की लहर दौड़ पड़ी। घटना की जानकारी होते ही परिजन भी तुरंत असम के लिए रवाना हो गए।


असम में ही रविवार को सैन्य सम्मान के साथ इस युवा पायलट फ्लाइट लेफ्टिनेंट ऑफिसर प्रमोद कुमार का अंतिम संस्कार कर दिया गया। इस अंतिम संस्कार में उनका पूरा परिवार और पत्नी स्क्वॉड्रन लीडर अदिति सिंह मौजूद रहीं पीडि़त परिवार के करीबियों ने बताया कि प्रमोद कुमार बचपन से ही होनहार था और सेना में जाकर देश की सेवा करने की इच्छा भी उसे बचपन से ही थी। इसी इच्छा के चलते उसने एनडीए टेस्ट पास कर 18 साल की उम्र में ही वायु सेना ज्वाइन कर ली थी।