एपीएससी घोटाला : गिरफ्तार एसीएस अधिकारी रूमी सैकिया भेजी गई जेल

Daily news network Posted: 2017-12-05 18:01:28 IST Updated: 2017-12-05 18:01:28 IST
एपीएससी घोटाला :  गिरफ्तार एसीएस अधिकारी रूमी सैकिया भेजी गई जेल
  • एपीएससी घोटाले में गिरफ्तार एसीएस अधिकारी रूमी सैकिया को विशेष न्यायाधीश की अदालत ने सोमवार को न्यायिक हिरासत में भेज दिया है । मालूम हो कि 14 दिनों की पुलिस रिमांड समाप्त होने के बाद आज सैकिया को अदालत में पेश किया गया था ।

असम

गुवाहाटी । एपीएससी घोटाले में गिरफ्तार एसीएस अधिकारी रूमी सैकिया को विशेष न्यायाधीश की अदालत ने सोमवार को न्यायिक हिरासत में भेज दिया है । मालूम हो कि 14 दिनों की पुलिस रिमांड समाप्त होने के बाद आज सैकिया को अदालत में पेश किया गया था ।






भूमिगत रहने के बाद सैकिया ने बीते 20 नवंबर को विशेष न्यायधीश की अदालत में आत्मसमर्पण किय था । दूसरी ओर डिब्रूगढ़ पुलिस की और से पहले चरण में गिरफ्तार 14 एसीएस अधिकारियों को अदालत ने फिर न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। 




दरंग की सर्किल अधिकारी पल्लवी शर्मा चौधरी, शिवसागर के चुनाव अधिकारी दीपक खनिकर, हामरेन के चुनाव अधिकारी देवजीत बरुवा, लखीमपुर के सर्किल अधिकारी अनिरुद्ध राय, आगमनी  के सर्किल अधिकारी हिमांशु चौधरी, शोणितपुर के रोजगार अधिकारी अमरजीत व, भवानीपुर के श्रम अधिकारी राजू साहा, 12बी असम पुलिस बटालियन के सहायक कमांडेंट सबिरा इमरान, 7र्वी असम पुलिस बटालियन के सहायक कमांडेंट जयंत कुमार नाथ, जोरहाट के उप-पुलिस अधीक्षक हेमंत सैकिया, गुवाहाटी स्थित सीमा शाखा के उप-पुलिस अधीक्षक हर्षज्योति बोरा,  8वी असम पुलिस बटालियन के सहायक कमांडेंट यतीन्द्र प्रसाद बरुवा व सर्किलअधिकारी बरगियारी को सोमवार को विशेष न्यायधीश की अदालत में पेश किया गया था । 




दूसरी ओर पूर्व कृषि मंत्री  नीलमणि सेन डेका के पुत्र राजर्षि सेन डेका की जमानत याचिका पर सोमवार को अदालत में सुनवाई हुई । डेका की जमानत पर अदालत की ओर से कल तक फैसला सुनाए जाने की संभावना है । दूसरी ओर घोटाले को जांच कर रही  डिब्रूगढ़  पुलिस के जांच अधिकारी सुरजीत सिंह पानेसर ने मीडिया को बताया कि घोटाले में शामिल किसी को भी बख्या नहीं जाएगा ।

 कई दलाल शीघ्र ही पुलिस के शिकंजे में होंगे । जांच के लिए बाहरी राज्य के फारेंसिक लेबोंरटरी में भेजी गई उत्तर पुस्तिकाएं दो-तीन महीने के भीतर यहां पहुंच जाएंगी । उत्तर पुस्तिकाएं पहुंचते ही आगे की कार्रवाई की जाएगी  ।