तरुण गोगोई ने कहा,असम में आरएसएस चला रहा है सरकार

Daily news network Posted: 2017-08-12 16:32:43 IST Updated: 2017-08-12 16:32:43 IST
तरुण गोगोई ने कहा,असम में आरएसएस चला रहा है सरकार
  • असम के पूर्व मुख्यमंत्री तरुण गोगोई ने भाजपा के नेतृत्व वाली गठबंधन सरकार को आड़े हाथों लिया। गोगोई ने मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल की भी जमकर आलोचना की है।

गुवाहाटी। असम के पूर्व मुख्यमंत्री तरुण गोगोई ने भाजपा के नेतृत्व वाली गठबंधन सरकार को आड़े हाथों लिया। गोगोई ने मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल की भी जमकर आलोचना की है। गोगोई ने आरोप लगाया है कि प्रदेश की मौजूदा सरकार को राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ(आरएसएस) चला रहा है। गुवाहाटी में शुक्रवार को प्रेस कांफ्रेंस में गोगोई ने कहा, आरएसएस प्रत्यक्ष रूप से भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार की फंक्शनिंग में हस्तक्षेप कर रहा है। पूर्व मुख्यमंत्री गुरुवार को राज्य सरकार की हुई मीटिंग के बारे में बात कर रहे थे। इस मीटिंग में भाजपा और संघ के कई सदस्य शामिल हुए थे।


गोगोई ने कहा, इससे साबित होता है कि असम सरकार को सर्वानंद सोनोवाल नहीं आरएसएस चला रहा है। सोनोवाल और उनके मंत्रियों के पास न तो खुद के आइडिया हैं और न ही प्लान। इस सरकार पर पूरी तरह ेसे आरएसएस का नियंत्रण है। राज्य सरकार के नेता अयोग्य हैं। गोगोई ने आरोप लगाया कि आरएसएस के निर्देश पर मुख्य सचिव वी.के. पिपेरसेनिया को सेवा में 6 मह का एक्सटेंशन दिया गया। पिपेरसेनिया ने ऑल इंडिया सर्विसेज(कंडक्ट)रूल्स का उल्लंघन किया है। जब मैं मुख्यमंत्री था तब मेरे कार्यकाल के दौरान हिमंता बिस्वा सरमा ने राहुल गांधी से शिकायत की थी कि मैंने उस व्यक्ति को राज्य का मुख्य सचिव बनाया है जिनके आरएसएस से संबंध है। हालांकि अब यह साबित हो गया है कि पिपेरसेनिया आरएसएस के समर्थक हैं।


गोगोई ने कहा कि अब हम भी मांग करते हैं कि मुख्य सचिव कांग्रेस पार्टी को ब्रीफ करें। पूर्व मुख्यमंत्री ने स्टेट कैबिनेट के सदस्यों की भी आलोचना की। उन्होंने कहा, सर्वानंद सोनोवाल, हमंता बिस्वा सरमा और चंद्रमोहन पटवारी के कॉम्बिनेशन के पास सरकार चलाने की योग्यता नहीं है। सरकार तो मुख्य सचिव चला रहे हैं। गोगोई ने सोनोवाल को असम के इतिहास का सबसे कमजोर मुख्यमंत्री बताया। उन्होंने कहा कि सोनोवाल,हिमंता बिस्वा सरमा व पटवारी का बर्ताव व कार्य बदन बारफुकन की याद दिलाते हैं।