घूसखोर अफसर को असम सरकार ने किया निलंबित

Daily news network Posted: 2017-09-15 11:26:08 IST Updated: 2017-09-15 11:26:08 IST
घूसखोर अफसर को असम सरकार ने किया निलंबित
  • भाजपा के नेतृत्व वाली सर्वानंद सोनोवाल सरकार ने गुरुवार को असम सिविल सर्विस(एसीएस) के वरिष्ठ अधिकारी बिनोद कुमार डेका को तुरंत प्रभाव से निलंबित कर दिया

गुवाहाटी।

भाजपा के नेतृत्व वाली सर्वानंद सोनोवाल सरकार ने गुरुवार को असम सिविल सर्विस(एसीएस) के वरिष्ठ अधिकारी बिनोद कुमार डेका को तुरंत प्रभाव से निलंबित कर दिया। डेका चिरांग जिले में डिप्टी कमिश्नर के पद पर तैनात थे। उन पर पिछले महीने एक ठेकेदार से घूस मांगने और घूस लेने का आरोप है। मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद असम सरकार के पर्सनल डिपार्टमेंट ने डेका को निलंबित करने का आदेश जारी हुआ।



मुख्यमंत्री कार्यालय की ओर से जारी प्रेस रिलीज में कहा गया कि विजिलेंस के निदेशक और एसीबी विभाग की जांच रिपोर्ट के आधार पर डेका को निलंबित किया गया है। मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल के हवाले से प्रेस रिलीज में कहा गया कि असम सरकार ने भ्रष्टाचार के खिलाफ जीरो टॉलरेंस की नीति अपनाई है। किसी भी भ्रष्ट अधिकारी को किसी भी कीमत पर बख्शा नहीं जाएगा और सरकार आने वाले दिनों में और कड़े तरीकों से भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई जारी रखेगी। उन्होंने सरकारी योजनाओं को प्रभावी तरीके से लागू करने में भ्रष्टाचार को बड़ा डिटरेंट(निवारक) करार दिया।



डेका की जगह असम सिविल सर्विसेज ऑफिसर रातुल बरुआ को डिप्टी कमिश्नर पद पर तैनात किया गया है। डेका ने कथित रूप से एक ठेकेदार से 6 लाख रुपए की रिश्वत मांगी थी। पिछले महीने एक वीडियो में वह कथित रूप से 30 हजार रुपए कैश लेते हुए दिखाई दिए थे। मुख्यमंत्री ने तुरंत विजिलेंस और एसीबी विभाग को जांच का आदेश दिया। दोनों रिपोर्ट के बाद डेका को निलंबित कर दिया गया।



मुख्यमंत्री सोनोवाल ने कहा कि सरकार का जोर सभी योजनाओं के सही व ईमादारीपूर्ण यूटिलाइजेशन पर है,ताकि लोगों को लाभ मिल सके। पिछले महीने भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार ने जांच रिपोर्टों के बाद तीन एसीएस अधिकारियों को डिसमिस कर दिया था। इस बात की पुष्टि हुई थी कि तीनों बेईमानी से असम सिविल सर्विस के लिए सलेक्ट हुए थे। असम सरकार के पर्सनल डिपार्टमेंट ने तीन अलग अलग डिस्चार्ज आदेश जारी किए थे। इनमें कहा गया था कि तीनों सर्विस के सदस्य के लिए अनफिट हैं।