असम में फैली ऐसी अफवाह जिससे पुलिस के उड़ गए होश

Daily news network Posted: 2017-09-16 13:52:02 IST Updated: 2017-09-16 13:52:02 IST
असम में फैली ऐसी अफवाह जिससे पुलिस के उड़ गए होश
  • असम में एक अफवाह ने पुलिस की नाक में दम कर रखा था। ये अफवाह पिछले कुछ सप्ताह से फैली है।

गुवाहाटी। असम में एक अफवाह ने पुलिस की नाक में दम कर रखा था। ये अफवाह पिछले कुछ सप्ताह से फैली है। इस अफवाह से बराक वैली में डर का माहौल उत्पन्न हो गया है। अफवाह यह है कि एक गैंग घरों में घुसकर एनआरसी दस्तावेजों को चुरा रही है और नष्ट कर रही है। कई लोग इस अफवाह के शिकार हो रहे हैं। ताजा मामला करीमगंज जिले के कलीगंज गांव का है, जहां बीती रात स्थानीय लोगों ने छह लोगों को पकड़ लिया। स्थानीय लोगों को शक था कि ये उस गैंग का हिस्सा है जो कथित रूप घरों में घुसकर एनआरसी दस्तावेजों को चुरा रही है या नष्ट कर रही है। 


स्थानीय लोगों ने सभी की जमकर धुनाई कर दी। अंग्रेजी समाचार पत्र दे टेलीग्राफ की खबर के मुताबिक कलीगंज के स्थानीय लोगों ने बीती रात इन 6 लोगों को सड़क किनारे स्थित एक होटल के बाहर देखा। स्थानीय लोगों ने उनसे पूछा कि वे मूलत: कहां के हैं और क्या काम करते हैं। जब वे कोई ऐसा जवाब नहीं दे पाए जिस पर भरोसा हो सके तो स्थानीय लोगों ने उनकी पिटाई कर दी। 


इसके बाद कलीगंज पुलिस आउटपोस्ट घटनास्थल पर पहुंची और सभी 6 लोगों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया। कलीगंज पुलिस आउटपोस्ट के प्रभारी लितोन नाथ ने बताया कि पूछताछ और उनके दस्तावेजों की जांच के बाद उस कंपनी से संपर्क किया जहां वे काम करते हैं। कंपनी ने कहा कि ये लोग किसी गैंग से जुड़े हुए नहीं है। सभी 6 लोग उस कंपनी के लिए काम करते हैं जो अटल अमृत अभियान के तहत काम करती है। जिन 6 लोगों को एनआरसी दस्तावेज चुराने वाली गैंग का सदस्य समझकर लोगों ने पीटा गया था उनकी पहचान पंकज कुमार(28), रोशन कुमार मिश्रा(23), बप्पा कुमार(30), प्रवीण कुमार(31), एस.के.नजिमुल(20) और एम.के.नाजुमल हसन(20) के रूप में हुई है। 


नजिमुल और नाजमुल बंगाल से हैं जबकि अन्य चार बिहार के रहने वाले हैं। कलीगंज करीमगंज कस्बे से 12 किलोमीटर दूर है। एक अन्य घटना में रात करीब 8.30 बजे करीमगंज जिले के कनिशाइल में स्थानीय लोगों ने कुछ लोगों को संदिग्ध हालत में घूमते हुए देखा। स्थानीय लोग उनके पास पहुंचते उससे पहले ही वे भाग गए। इससे स्थानीय लोगों की आशंका को बढ़ा दिया। जब करीमगंज के एसपी गौरव उपाध्याय से पूछा गया कि अफवाह को रोकने के लिए पुलिस ने अभी तक क्या कदम उठाए हैं तो उन्होंने कहा, लोगों के बीच विश्वास का माहौल बनाने के लिए दूर दराज के इलाकों में मीटिंग की जा रही है। सभी विलेज डिफेंस पार्टियों को कड़ी निगरानी के लिए ब्रीफ किया गया है।