गोरखालैंड के समर्थन में उतरे बाइचुंग भूटिया

Daily news network Posted: 2017-09-17 13:02:30 IST Updated: 2017-09-17 13:02:30 IST
गोरखालैंड के समर्थन में उतरे बाइचुंग भूटिया
  • तृणमूल कांग्रेस के नेता और भारतीय फुटबॉल टीम के पूर्व कप्तान बाइचुंग भूटिया गोरखालैंड के समर्थन में उतर आए हैं।

सिलीगुड़ी।

तृणमूल कांग्रेस के नेता और भारतीय फुटबॉल टीम के पूर्व कप्तान बाइचुंग भूटिया गोरखालैंड के समर्थन में उतर आए हैं। उन्होंने कहा कि दार्जिलिंग पहाड़ की समस्या के स्थायी समाधान के लिए अलग गोरखालैंड राज्य जरूरी है। उन्होंने कहा कि बंगाल सरकार को बड़े भाई का दिल दिखाते हुए छोटे भाई का ख्याल रखना चाहिए और इस स्थायी समस्या का उचित हल निकालना चाहिए। उन्होंने कहा कि दार्जिलिंग पहाड़ कभी पश्चिम बंगाल का हिस्सा नहीं था, इसलिए बंगाल के लोगों को यह महसूस नहीं करना चाहिए कि उनका राज्य बंट रहा है।


एक सिक्किमी अखबार से बातचीत में भूटिया ने कहा कि वह गोरखालैंड के मसले पर सीएम ममता बनर्जी के नजरिये से सहमत नहीं हैं। हालांकि उन्होंने तृणमूल से इस्तीफा देने की बात से इनकार करते हुए कहा कि इससे कोई लाभ होने वाला नहीं है। भूटिया ने गोरखालैंड पर अपने विचारों को व्यक्तिगत बताते हुए कहा कि पहाड़ के लोग तीन दशक से भी अधिक समय से अलग राज्य के लिए संघर्षरत हैं।


उन्होंने कहा कि सिक्किम के मुख्यमंत्री पवन चामलिंग को पहाड़ के नेताओं को गाइड करना चाहिए, जिससे वे गोरखालैंड की मांग को रचनात्मक और असरदार ढंग से रख सकें। सिक्किम के दो सांसदों को भी गोरखालैंड का विषय संसद में मजबूती से उठना चाहि। भूटिया ने सुझाव दिया है कि गोरखालैंड समर्थक पार्टियों को बंगाली बुद्धजीवी वर्ग और तृणमूल नेताओं का समर्थन हासिल करना चाहिए। कुछ तृणमूल नेता और नौकरशाह गोरखालैंड की मांग से सहमत हैं, पर इस बात को कहने में मुश्किल महसूस करते हैं, अगर पहाड़ अलग राज्य या संघ शासित क्षेत्र बनता है, तो इससे सिलीगुड़ी को भी लाभ होगा।