'त्रिपुरा में लेफ्ट फ्रंट को हराने के लिए भाजपा ने उग्रवादी संगठन से मिलाया हाथ'

Daily news network Posted: 2017-06-15 15:37:42 IST Updated: 2017-06-15 15:37:42 IST
'त्रिपुरा में लेफ्ट फ्रंट को हराने के लिए भाजपा ने उग्रवादी संगठन से मिलाया हाथ'
  • सत्तारुढ़ सीपीआई(एम) ने आरोप लगाया कि भाजपा अलग राज्य की मांग करने वाली पार्टी आईपीएफटी और अंडरग्राउंड उग्रवादी संगठन से मिली हुई है

अगरतला।

सत्तारुढ़ सीपीआई(एम) ने बुधवार को आरोप लगाया कि भाजपा अलग राज्य की मांग करने वाली पार्टी आईपीएफटी और अंडरग्राउंड उग्रवादी संगठन से मिली हुई है। माकपा का आरोप है कि आईपीएफटी का भाजपा से गुप्त तालमेल हुआ है। अगले साल राज्य में होने वाले विधानसभा चुनाव में लेफ्ट फ्रंट को हराने के लिए भाजपा ने साजिश रची है।


प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए सीपीआई(एम) के राज्य सचिव बिजन धर ने कहा, भाजपा आईपीएफटी का इस्तेमाल करने की कोशिश कर रही है। आईपीएफटी अलग राज्य की मांग कर रही है। आईपीएफटी और उग्रवादी संगठन नेशनल लिबरेशन फ्रंट ऑफ त्रिपुरा(एनएलएफटी) लेफ्ट फ्रंट सरकार को हराने और आदिवासियों और गैर आदिवासियों के बीच सांप्रदायिक तनाव भड़काना चाहते हैं। अलग राज्य की मांग को लेकर आईपीएफटी ने 10 जुलाई से असम-अगरतला हाईवे को ब्लॉक करने की घोषणा की है।


आईपीएफटी का कहना है कि जब तक अलग राज्य की मांग स्वीकार नहीं कर ली जाती तब तक आंदोलन जारी रहेगा। धर ने कहा, एनएससीएन(आईएम)के फ्रंट यूनाइटेड नगा काउंसिल ने मणिपुर में संकट खड़ा करने के लिए राज्य के नगा बहुल इलाको में सड़कों को जाम कर दिया था। धर ने आरोप लगाया कि आईपीएफटी की नाकेबंदी को एनएलएफटी का समर्थन प्राप्त है। उन्होंने कहा कि भाजपा गुप्त रूप से मांग का समर्थन कर रही है और उसने हाईवे को जाम करने के कदम का विरोध नहीं किया है। आईपीएफटी के प्रतिनिधियों ने 17 मई को प्रधानमंत्री कार्यालय में राज्यमंत्री जितेन्द्र सिंह से मुलाकात की थी। उन्होंने अलग राज्य की मांग को लेकर एक ज्ञापन सौंपा था। धर ने कहा कि भाजपा ने आईपीएफटी के 10 जुलाई से शुरू होने वाले आंदोलन को गुप्त समर्थन दिया है।


आईपीएफटी के प्रमुख एनसी देबबर्मा हाल ही में दिल्ली गए थे। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी सहित भाजपा के बड़े नेताओं से मुलाकात की थी। वापस यहां आने के बाद उन्होंने बेमियादी हड़ताल की घोषणा कर दी। इससे पता चलता है कि भाजपा ने इसका समर्थन किया है।