गर्लफ्रेंड की जली लाश का खुल गया राज, इस तरह की गयी थी साजिश

Daily news network Posted: 2017-12-07 12:06:58 IST Updated: 2017-12-07 12:18:28 IST
गर्लफ्रेंड की जली लाश का खुल गया राज, इस तरह की गयी थी साजिश
  • पुलिस का दावा है कि श्वेता हत्याकांड की गुत्थी का पूरी तरह सुलझा दिया गया है।

गुवाहाटी

सोमवार की शाम दोस्त के घर में संदिग्ध परिस्थितयों में हुर्इ श्वेता अग्रवाल की मौत ने पूरे राज्य को झकझोर दिया। अब पुलिस का दावा है कि श्वेता हत्याकांड की गुत्थी काे पूरी तरह सुलझा दिया गया है। इस रहस्य से पुलिस ने 36 घंटे में पर्दा उठाते हुए कहा है कि छात्रा की हत्या को आत्महत्या का रूप देने की कोशिश की गर्इ है। ये साजिश छात्रा के दोस्त गोविंद ने की लेकिन वह अपने गंदे इरादों मे कामयाब नहीं हो पाया आैर पुलिस के सामने अपने गुनाहाें को कबूल कर लिया। आरोपी ने पुलिस के सामने कर्इ विस्फोटक खुलासे किए। 



इस मामले में गुवाहाटी पुलिस हिरेन नाथ ने बताया कि श्वेता आैर गाेविंद 2016 फरवरी में एक दूसरे से मिले थे। पहले गाेविंद ने श्वेता को प्रपोज किया तब श्वेता ने मना कर दिया था। उसके 3 महीने बाद श्वेता ने गाेविंद के प्रपोजल को स्वीकार किया आैर करीब डेढ़ साल से दोनो रिलेशन में थे। श्वेता अक्सर गाेविंद के घर आया-जाया करती थी आैर इस बात  का पता गाेविंद के माता पिता को था लेकिन श्वेता के घर वाले इस बात से बेखबर थे। 



गाेविंद आैर श्वेता दोनो एक ही फर्म में सीए की पढ़ार्इ कर रहे थे। घटना वाले दिन श्वेता करीब 1 बजे परीक्षा के बाद गोविंद के घर पहुंची। गोविंद का परिवार जल्द ही सिलीगुड़ी शिफ्ट होने वाला था इसलिए श्वेता ने गोविंद से कहा कि वह उसके माता-पिता से दोनो की शादी की बात करें। जिसके लिए गोविंद मे मना कर दिया आैर इस बात से दोनों में कहा सुनी होने लगी। 



इतना ही नहीं बात इतनी बढ़ गर्इ कि गोविंद ने श्वेता का धक्का दे दिया आैर श्वेता दीवार से टकराकर जमीन पर गिर गर्इ। उसके सिर से खून बह रहा था जिसे देखकर गोविंद घबरा गया आैर पानी लाकर खून को साफ करने लगा लेकिन सिर पर इतनी गंभीर चोट थी कि खून काफी बहने लगा।


श्रीनाथ ने कहा कि जब गोविंद ने उसकी नब्ज देखी तो उसकी मौत हो चुकी थी। अब गोविद ने अपने गुनाहों को छुपाने के लिए शव ठिकाने लगाने का साेचने लगा आैर शव को अगरबत्ती के डिब्बे में डालकर भरलु नदी के किनारे ले जा रहा था लेकिन पकड़े जाने के डर से घर वापस आ गया आैर बाथरूम में किरोसिन डालकर शव काे जला दिया। इसके बाद गोविंद ने अपनी मां कमला देवी सिंघल आैर अपनी बड़ी बहन भवानी सिंघल को फोन किया। उसकी मां अगरबत्ती की फैक्ट्री में थी और बहन क्रिश्चियन बस्ती में बैकिंग को कोचिंग के लिए गर्इ थी ।



घर आकर दोनो नें अपने बेटे आैर भार्इ के गुनाहों को छुपाने के लिए सबूतों को मिटाने की कोशिश करने लगी। श्रीनाथ ने बताया कि दोनो ने पहले खून के धब्बे साफ किए उसके बाद शव पर पानी डालकर बुझाया। उसकी बहन ने 100 नं. पर कॉल करके पुलिस को छात्रा के उनके घर पर आत्महत्या करने की खबर दी।


 

श्रीनाथ ने कहा कि श्वेता की हत्या सोची समझी साजिश का हिस्सा नहीं थी लेकिन जिस तरह शव को ठिकाने लगाने की कोशिश की गर्इ वह बहुत से सवालों को खड़ा कर रही थी। उन्होंने कहा कि आराेपी आैर उसके परिवार वालो ने घटना को  आत्महत्या का रूप देने को प्रयास किया लेकिन पुलिस की पूछताछ ने इस गुत्थी को सुलझा ही दिया।