लफिकुल इस्लाम हत्याकांड में सीबीआई ने प्रत्यक्षदर्शी से की पूछताछ

Daily news network Posted: 2017-11-13 15:30:02 IST Updated: 2017-11-13 15:30:02 IST
लफिकुल इस्लाम हत्याकांड में सीबीआई ने प्रत्यक्षदर्शी से की पूछताछ
  • कोकराझार जिले में हुई हत्या के केस में गवाहों के बयान दर्ज करने शुरू कर दिए हैं।

गुवाहाटी।

कोकराझार जिले में हुई हत्या के केस में गवाहों के बयान दर्ज करने शुरू कर दिए हैं। समाचार पत्र द

टेलीग्राफ ने आधिकारिक सूत्र के हवाले से रिपोर्ट दी है कि सीबीआई की एक टीम जो कलकत्ता स्थित स्पेशल क्राइम ब्रांच से है, ने कोकराझार कस्बे के तितागुरी मार्केट में स्थित टाइल्स की दुकान के मालिक गौतम घोष से पूछताछ की। सीबीआई की टीम ने घोष का बयान दर्ज किया है।


आपको बता दें कि 1 अगस्त को तितागुरी मार्केट में ही लफिकुल इस्लाम की गोली मारकर हत्या की गई थी। मामला सीबीआई की कलकत्ता स्थित क्राइम ब्रांच ने दर्ज किया था। घोष हत्याकांड का प्रत्यक्षदर्शी है। इससे पहले पुलिस ने उससे लफिकुल की हत्या के मामले में पूछताछ की थी। सूत्र का कहना है कि सीबीआई टीम का नेतृत्व पुलिस उपाधीक्षक बी.बी.चक्रवर्ती कर रहे हैं। वही मामले के जांच अधिकारी हैं। बी.बी.चक्रवर्ती ने घोष की दुकान के अन्य स्टाफ और स्थानीय लोगों से हत्या के संबंध में पूछताछ की।


टाइल्स की दुकान के कर्मचारी शुभांकर चक्रवर्ती का बयान भी जांच टीम दर्ज करेगी। शुभांकर चक्रवर्ती भी लफिकुल हत्याकांड का चश्मदीद है। उससे एक या दो दिन में पूछताछ होगी। जब अज्ञात बदमाशों ने फायरिंग की थी तो शुभांकर चक्रवर्ती भी गोली लगने से घालय हो गया था। मामले की जांच के लिए सीबीआई की टीम ने कोकराझार सर्किट हाउस में कैंप ऑफिस स्थापित किया है। स्थानीय पुलिस से मामले से जुड़े दस्तावेज व आर्टिकल्स एकत्रित किए जाने की प्रक्रिया जारी है। सीबीआई ने आईपीसी की धारा 120 बी, 302, 326, आम्र्स एक्ट की धारा 25(1-ए) और 27(3) के तहत मामला दर्ज किया था।


जांच पुलिस अधीक्षक और सीबीआई एससीबी(कलकत्ता) ब्रांच के प्रमुख उपेन्द्र कुमार अग्रवाल की निगरानी में चल रही है। हत्या में वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों की संलिप्तता के आरोपों के बाद राज्य सरकार ने केन्द्र से मामले की सीबीआई से जांच कराने का अनुरोध किया था। पुलिस जांच पर संदेह व्यक्त करते हुए कई संगठनों ने सीबीआई से जांच कराने की मांग की थी। उनका कहना था कि पुलिस की जांच निष्पक्ष नहीं है। हत्या के तुरंत बाद पुलिस ने एंताज अली को गिरफ्तार किया था। वह कथित रूप से पशु तस्कर है।