हिंदुस्तान के सबसे पढ़े-लिखे मुख्यमंत्री हैं चामलिंग, ये रिपोर्ट दे रही है सबूत

Daily news network Posted: 2018-02-13 13:07:09 IST Updated: 2018-02-13 13:07:09 IST
हिंदुस्तान के सबसे पढ़े-लिखे मुख्यमंत्री हैं चामलिंग, ये रिपोर्ट दे रही है सबूत

गंगटोक।

राजनीतिक दलों पर निगाह रखने वाले संगठन एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉम्र्स (एडीआर) की एक रिपोर्ट में सिक्किम के मुख्यमंत्री पवन कुमार चामलिंग ने बाजी मार ली है। दरअसल देश के 29 राज्यों के सीएम द्वारा चुनावी हलफनामें में दिए गए ब्यौरे पर गौर किया जाए तो शिक्षा के लिहाज से सिक्किम के मुख्यमंत्री चामलिंग सबसे अधिक शिक्षित हैं। चामलिंग के पास डॉक्टरेट की उपाधि है। देश के 39 फीसदी मुख्यमंत्री ग्रेजुएट हैं और 32 फीसदी प्रोफेशनल्स हैं। 16 फीसदी मुख्यमंत्री पोस्ट ग्रेजुएट हैं और सिर्फ 10 फीसदी मुख्यमंत्री ही ऐसे हैं, जिन्होंने हाई स्कूल भी पास नहीं किया।


चामलिंग ने मनिपाल विश्वविद्यालय से डॉक्टरेट की डिग्री हासिल की है। वह एक कवि भी है और उन्हें इस क्षेत्र में कई पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है। इसके साथ ही उन्हें राज्य के अच्छे शासन के लिए भी पुरस्कृत किया जा चुका है। इन्हें अपनी कविता के लिए भानु पुरस्कार और समाज सेवा के लिए भी इन्हें मानव सेवा पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है। सिक्किम राज्य का हरित राज्य बनाने के लिए भी इन्हें पुरस्कार मिला है। पवन कुमार चामलिंग नेपाली भाषा के एक सम्माननीय लेखक हैं। इनका साहित्यिक नाम पवन कुमार चामलिंग 'किरण' है।


चामलिंग का जन्म 22 सितंबर, 1950 को सिक्किम के एक छोटे और बेहद पिछड़े गांव यंगयंग में हुआ था। वर्ष 1972 में राजनीति में आने से पहले वह किसान और प्रथम श्रेणी के ठेकेदार रह चुके हैं। चामलिंग वर्ष 1973 में सक्रिय राजनीति से जुड़े गए थे। अपने राजनैतिक कॅरियर की शुरूआत में वह सिक्किम प्रजातंत्र पार्टी के सदस्य बने।  सिक्किम की राजनीति में कई अच्छे-बुरे दौर से गुजरने के बाद पवन कुमार चामलिंग ने वर्ष 1993 में सिक्किम डेमोक्रेटिक  फ्रंट की स्थापना की। 1994 के चुनावों में जीतने के बाद सिक्किम डेमोक्रेटिक फ्रंट पहली बार सत्ता में आया था।

सबसे गरीब हैं माणिक सरकार

वहीं त्रिपुरा के मुख्यमंत्री माणिक सरकार की बात की जाए तो वे सबसे गरीब मुख्यमंत्री माने गए हैं। माणिक सरकार के पास सिर्फ  26 लाख की कुल संपत्ति है। उनके पास न तो अपनी कोई कार है और न ही घर। सरकार के बाद पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी हैं। ममता के पास भी सिर्फ  30 लाख की ही संपत्ति है और इसमें कोई अचल संपत्ति नहीं है। संपत्ति के लिहाज से निचले क्रम में तीसरे पायदान पर जम्मू-कश्मीर की सीएम महबूबा मुफ्ती हैं। मुफ्ती के पास भी सिर्फ  55 करोड़ की चल-अचल संपत्ति है।

देश के सबसे अमीर मुख्यमंत्री हैं नायडू

आंध्र प्रदेश के सीएम चंद्रबाबू नायडू  इस वक्त देश के सबसे अमीर मुख्यमंत्री हैं। नायडू के साथ अमीरी की इस लीग में दूसरे नंबर पर अरुणाचल प्रदेश के सीएम पेमा खांडू और तीसरे नंबर पर हैं पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह। नायडू के पास 177 करोड़ की चल-अचल संपत्ति है, वहीं खांडू के पास 129 करोड़ और अमरिंदर सिंह के पास 48 करोड़ रुपए की संपत्ति है।

फडणवीस पर सबसे अधिक केस

संपत्ति के बाद अगर देश के मुख्यमंत्रियों पर दर्ज आपराधिक केस की बात की जाए तो यहां भी काफी चौंकानेवाले आंकड़े हैं। महाराष्ट्र के सीएम देवेंद्र फडणवीस के ऊपर अभी तक सबसे अधिक 22 केस दर्ज हैं। दूसरे नंबर पर केरल की सीपीएम सरकार के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन पर 11 आपराधिक मुकदमे चल रहे हैं। तीसरे स्थान पर हैं दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल। केजरीवाल पर 10 केस दर्ज हैं।