ये मुस्लिम शख्स करता है योगी की गायों की देखभाल, जानिए क्यों

Daily news network Posted: 2017-03-20 17:48:27 IST Updated: 2017-10-10 15:18:07 IST
ये मुस्लिम शख्स करता है योगी की गायों की देखभाल, जानिए क्यों
  • यूपी के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ को गायों से बहुत प्रेम है। यही कारण है कि उनकी गौशाला सेवा केद्र में 400 से ज्यादा गाय हैं।

गोरखपुर।

यूपी के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ को गायों से बहुत प्रेम है। यही कारण है कि उनकी गौशाला सेवा केद्र में 400 से ज्यादा गाय हैं। योगी से सांसद फिर महंत और अब यूपी के सीएम बने आदित्यनाथ गोरखपुर में रहने के दौरान खुद सुबह शाम इनके बीच एक घंटे तक रहकर इन्हें गुड़, बिस्कुट और चारा खिलाते हैं। हालांकि आपको यह जानकार आश्चर्य होगा कि इन गायों की देखभाल मान मोहम्मद अपने साथियों के साथ करते हैं।


ये गौशाला गोरखपुर में स्थित गोरक्षनाथ मंदिर के अंदर ठीके पीछे की ओर बनी हुई है। इस गौशाला में देशी, हरियाणा, साहिवाल और गुजरात की गिरि नस्ल की गाय और सांड हैं। इस सभी की सेवा गौशाला के प्रबंधक शिव यादव की देखरेख में मान मोहम्मद उनके पिता इनयतुल्लाह, विजय, पिंटू, सीताराम और सुरेन्द्र इन गायों की सेवा करते हैं।


वर्तमान में इनमें से तकरीबन 50 की संख्या में गाय दूध देने वाली हैं। इनसे प्रतिदिन भंडारी के मुताबिक, दूध तकरीबन 50 से 60 लीटर तक निकाला जाता है। दूध कहीं बाहर बेचा नहीं जाता है। बल्कि उससे दही, घी और मट्ठा बनता है। मट्ठा योगी भवन में आने वाले हर व्यक्ति को दिया जाता है। शाम का दूध यहां रहने वाले साधू-संत और सन्यासियों के लिए होता है।


उन्होंने बताया कि गायों के गोबर से जैविक खाद तैयार की जाती है। महीने में कभी 500 तो कभी 1000 बोरी खाद निकलती हैं। इसका इस्तेमाल गोरखनाथ मंदिर परिसर में लगे पेड़-पौधों में किया जाता हैं। गायों की देखभाल करने वाले महराजगंज चौक के रहने वाले मान मोहम्मद के पिता इनायतुल्लाह बचपन से ही यहां गायों की देखभाल कर रहे हैं। वे यहीं मंदिर में बने एक कमरे में परिवार के साथ पहले रहते थे। वे अब बुजुर्ग हो गए हैं इसलिए ज्यादा समय अपने गांव में बिताते हैं। योगी जी द्वारा पहला निवाला खिलाए जाने के बाद हम अपने सभी साथियों के साथ मिलकर चारा खिलाने, दूध निकालने का कार्य करते हैं। मान मोहम्मद ने कहा कि हमें और हमारे परिवार को ये कार्य करके बहुत सुकून मिलता है। यहां कोई भी गाय दान दे सकता है और उनकी सेवा करने के लिए आ सकता है।