डोकलाम विवाद: भारत-चीन की फ्लैग मीटिंग रही बेनतीजा

Daily news network Posted: 2017-08-13 11:36:51 IST Updated: 2017-08-13 11:36:51 IST
डोकलाम विवाद: भारत-चीन की फ्लैग मीटिंग रही बेनतीजा
  • चीन के भारी दबाव के बावजूद भी भारतीय सेना पीछे हटने को तैनात नहीं है। इस बीच दोनों देशों के बीच हुए फ्लैंग मीटिंग भी बेनतीजा रही

नई दिल्ली।

डोकलाम में भारत और चीन के बीच तनातनी लगातार जारी है। चीन के भारी दबाव के बावजूद भी भारतीय सेना पीछे हटने को तैनात नहीं है। इस बीच दोनों देशों के बीच हुए फ्लैंग मीटिंग भी बेनतीजा रही है। सूत्रों के अनुसार, भारत ने एक बार फिर चीन से कहा कि वह भूटानी भूभाग में सड़क निर्माण का काम बंद करे।  सिक्किम के नाथूला में  हुई फ्लैग मीटिंग में भारत की ओर से सेना के दो शीर्ष अधिकारी और एक मेजर जनरल रैंक के अधिकारी शामिल हुए। आम तौर पर फ्लैग मीटिंग ब्रिगेडियर स्तर के अधिकारियों के बीच होती है। 


सूत्रों के अनुसार, एक अन्य फ्लैग मीटिंग जल्द हो सकती है और इसमें लेफ्टिनेंट जनरल स्तर के अधिकारी शामिल हो सकते हैं। इस बीच ऐसी खबरें आई थीं कि भारतीय सेना पूर्वी सीमा पर हाई अलर्ट पर है। सैन्य अधिकारियों ने हालांकि स्थिति पर कोई टिप्पणी करने से इनकार कर दिया और इस बात को खारिज कर दिया कि किसी तरह का अलर्ट जारी हुआ है। 


इससे पहले डोकलाम के मुद्दे पर चीन की धमकियों को गंभीरता से लेते हुए भारत ने सिक्किम और अरुणाचल प्रदेश से लगी सीमा के समूचे इलाके में सैनिकों की तैनाती बढ़ा दी है। वरिष्ठ अधिकारियों ने यह जानकारी दी। चीन की हरकतों को ध्यान में रखते हुए सैनिकों को चौकन्ना रहने को भी कहा गया है।

रक्षा विशेषज्ञों के मुताबिक, स्थानीय मौसम से तालमेल बिठा चुके जवानों सहित करीब 45 हजार जवानों को हर वक्त सीमा पर तैयार रखा जाता है, लेकिन जरूरी नहीं है कि उन्हें तैनात किया ही जाए। समुद्र तल से  नौ हजार फुट से भी ज्यादा की उंचाई पर तैनात सैनिकों को मौसम से तालमेल बिठाने की 14 दिन लंबी प्रक्रिया से गुजरना पड़ता है ।