असम: भारी बारिश के कारण दफ्तर नहीं जा पाए मुख्यमंत्री सोनोवाल

Daily news network Posted: 2017-06-14 11:24:59 IST Updated: 2017-06-14 11:24:59 IST
असम: भारी बारिश के कारण दफ्तर नहीं जा पाए मुख्यमंत्री सोनोवाल
  • मंगलवार को तेज बारिश के कारण असम के प्रमुख शहर गुवाहाटी में बाढ़ जैसे हालात उत्पन्न हो गए

गुवाहाटी।

मंगलवार को तेज बारिश के कारण असम के प्रमुख शहर गुवाहाटी में बाढ़ जैसे हालात उत्पन्न हो गए। भारी बारिश से जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया। शहर में जगह जगह पानी जमा हो गया। इससे लोगों को काफी परेशानी उठानी पड़ी। शहर के ज्यादातर घरों में बारिश का पानी घुस गया। इस कारण गुवाहाटी एक टापू की तरह नजर आया।


हालात इतने खराब हो गए कि मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल भी अपने दफ्तर नहीं जा पाए। मुख्यमंत्री को राजधानी दिसपुर के जनता भवन स्थित दफ्तर जाना था लेकिन सड़कों पर पानी जमा होने के कारण वे दफ्तर जाने में विफल रहे। मुख्यमंत्री सोनोवाल को दो चुनावी रैलियों के लिए कार्बि आंगलोंग जाना था लेकिन भारी बारिश के कारण उनका हेलिकॉप्टर उड़ान नहीं भर पाया। इस कारण उनको अपना कार्यक्रम कैंसिल करना पड़ा।


आपको बता दें कि कार्बि आंगलोंग ऑटोनोमस काउंसिल के लिए चुनाव होने हैं। प्रशासन ने बुधवार को स्कूल और अन्य शैक्षणिक संस्थान बंद रखने का आदेश दिया है। शहर के कुछ इलाकों में भूस्खलन की भी खबर आई। वर्षाजनित हादसों में दो लोगों की मौत हो गई। बताया जा रहा है कि दोनों की मौत खुले में पड़े बिजली के तारों के संपर्क में आने से हुई। कामरुप के डिप्टी कमिश्नर एम.अंगामुथु ने बताया कि मरने वालों में स्कूली छात्र भी शामिल है। हमने घटना की जांच के आदेश दिए हैं। हमने शहर में विभिन्न स्थानों पर तुरंत पांच राहत शिविर स्थापित करने को कहा है। हमने प्रभावित लोगों तक राहत सामग्री पहुंचाना शुरू कर दिया है। असम में हर साल बाढ़ आती है। हर साल बाढ़ से सैंकड़ों लोग मारे जाते हैं।


विशेषज्ञों का कहना है कि गुवाहाटी में आई बाढ़ राज्य के अन्य इलाकों में आई बाढ़ जैसी नहीं है। ये आर्टिफिशियल बाढ़ है। बुनियादी ढांचे की कमी और अवैध निर्माण के कारण बाढ़ जैसे हालात उत्पन्न होते हैं। ड्रेनेज सिस्टम सही नहीं होने के कारण पानी विभिन्न इलाकों में जमा हो जाता है। विशेषज्ञों का कहना है कि पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार की तरह मौजूदा भाजपा सरकार भी गुवाहाटी में जलभराव की समस्या के समाधान के प्रति गंभीर नहीं है।