असम, अरुणाचल और मणिपुर में बाढ़ से हालात बेकाबू, 80 की मौत

Daily news network Posted: 2017-07-14 09:03:11 IST Updated: 2017-07-14 09:03:11 IST
असम, अरुणाचल और मणिपुर में बाढ़ से हालात बेकाबू, 80 की मौत
  • अरुणाचल प्रदेश, असम, और मणिपुर के 58 जिलों में बाढ़ और लैंडस्लाइड की वजह से अब तक 80 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई

नई दिल्ली।

भारी बारिश से पूर्वोत्तर के हालात काफी खराब हो चुके हैं। अरुणाचल प्रदेश, असम, और मणिपुर के 58 जिलों में बाढ़ और लैंडस्लाइड की वजह से अब तक 80 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई। सिर्फ असम में 44 लोग मारे गए हैं और 17 लाख लोगों पर इसका असर पड़ा है। नरेंद्र मोदी ने असम की बाढ़ पर दुख जताया है और हर मुमकिन मदद देने की बात कही है।


केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने बताया कि असम, अरुणाचल प्रदेश और मणिपुर के अधिकारियों के साथ उनके प्रदेशों के हालात की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि बाढ़ की वजह से कुल 58 जिले प्रभावित हैं और भूस्खलन से अरुणाचल प्रदेश, असम और मणिपुर में लगभग 80 लोगों की मौत हो चुकी है। 


एक आधिकारिक रिलीज में कहा गया कि उत्तर-पूर्वी क्षेत्र के विकास के लिए केंद्रीय राज्य मंत्री (डोनर) ने कहा कि राहत एवं बचाव कार्यों में राज्य सरकार को हर तरह की सहायता उपलब्ध करवाने के लिए केंद्र सरकार प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि डोनर और प्रधानमंत्री कार्यालय एक टीम के साथ पूरी स्थिति पर नजर बनाए हुए हैं। इस टीम का नेतृत्व केंद्रीय गृह राज्यमंत्री किरण रिजीजू कर रहे हैं। 


वहीं रिजीजू ने कहा कि एक महीने के अंदर एक उच्च स्तरीय अंतर मंत्रालयी टीम असम पहुंचेगी और बाढ़ से हुए नुकसान का आंकलन करेगी जिसमें अब तक 44 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं नागालैंड में हो रही लगातार बारिश से भी कई इलाकों में बाढ़ आने के साथ भूस्खलन के हालात पैदा गए हैं।



 

उधर, असम के धुबरी जिले की बाढ़ सीमा चौकी से सशस्त्र सीमा बल का एक जवान लापता हो गया है। ऐसी आशंका जताई जा रही है कि वह डूब गया है। बीएसएफ अधिकारियों के अनुसार, गश्त पर लगा 45 वर्षीय बिपिन मिश्रा बिहार का रहने वाला है। बुधवार रात को वह चौकीदार सीमा पोस्ट से लापता हो गया। बीएसएफ वाटर विंग, एनडीआरएफ और स्थानीय निवासियों के संयुक्त प्रयास से जवान को खोजने के लिए एक राहत अभियान चलाया गया है।