Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

जेएनयू में अभी भी लगे हुए हैं कश्मीर की आजादी वाले पोस्टर

Patrika news network Posted: 2017-03-04 14:58:51 IST Updated: 2017-03-04 17:54:20 IST
जेएनयू में अभी भी लगे हुए हैं कश्मीर की आजादी वाले पोस्टर
  • जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी में कश्मीर की आजादी की मांग वाले पोस्टर अभी तक नहीं हटाया गए हैं।

नई दिल्ली।

जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी में कश्मीर की आजादी की मांग वाले पोस्टर अभी तक नहीं हटाया गए हैं। यूनिवर्सिटी प्रशासन अभी तक नहीं सोच पाया है कि इन पोस्टरों को हटाया जाए या नहीं। एबीवीपी का कहना है कि अभी तक पोस्टरों का लगा होना प्रशासन की विफलता को साबित करना है। वहीं प्रशासन का कहना है कि अगर इन पोस्टरों को हटाया जाता है तो उसे विचार की अभिव्यक्ति को दबाने का दोषी बताया जा सकता है।



रेक्टर-1 चिंतमणि महापात्रा का कहना है कि सुरक्षा अधिकारियों ने इन पोस्टरों को हटाने की कोशिश की थी और वे दोबारा इसका प्रयास करेंगे। मामले की जांच चल रही है। इस बारे में डीएसयू से बात की जा रही है। जेएनयू के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि यूनिवर्सिटी प्रशासन अभी भी इस मसले पर कोई ठोस निर्णय नहीं ले पाया है। 2 मार्च को ही इन पोस्टरों की तस्वीरें अलग अलग जगहों पर फैलाई जा रही है। पोस्टरों में लिखा है कश्मीर और फिलस्तीन को आजाद करो। स्वनिर्णय का अधिकार जिंदाबाद। ये पोस्टर स्कूल ऑफ सोशल साइंसेज की दीवार पर अतिवामपंथी समह डेमोक्रेटिक स्टूडेंट यूनियन की ओर से लगाया गया था। पिछले साल 9 फरवरी को देश विरोधी नारे लगाने के आरोपी और राजद्रोह का मामला झेल रहे उमर खालिद और अनिर्बान भट्टाचार्य डीएसयू के पूर्व कार्यकर्ता रहे हैं।


जेएनयूएसयू के पूर्व संयुक्त सचिव और एबीवीपी के सौरभ शर्मा ने कहा,प्रशासन ने पोस्टर के मामले पर कोई भी एक्शन लेने से इनकार कर दिया है। प्रशासन की इस तरह की पॉलिसी के कारण ही 9 फरवरी जैसी घटनाएं होती हैं। हालांकि जेएनयूएसयू के अध्यक्ष मोहित पाण्डेय ने कहा,जेएनयू में पूरी तरह से अभिव्यक्ति की आजादी है और कोई भी पोस्टर कहीं भी लगा सकता है। पाण्डेय भी इस मसले को उठाए जाने की टाइमिंग पर सवाल उठा रहे हैं। उन्होंने कहा,ये पोस्टर काफी समय से यहां पर लगा हुआ है लेकिन अभी यह मसला इसलिए उठाया गया है ताकि लोगों का ध्यान यूजीसी के नोटिफिकेशन से ध्यान हटाया जाए। जिसका हम विरोध कर रहे हैं।