जरूर जाएं गणपतिपुले, कोंकण तट की बेहद खूबसूरत जगह है ये

Daily news network Posted: 2017-09-17 16:41:24 IST Updated: 2017-09-17 16:41:24 IST
जरूर जाएं गणपतिपुले, कोंकण तट की बेहद खूबसूरत जगह है ये
  • अगर आप बीच पर छुट्टियां बिताने का प्लान बना रहे हैं तो कोंकण तट का गणपतिपुले बीच एक बहुत अच्छा ऑप्शन हो सकता है।

नई दिल्ली।

अगर आप बीच पर छुट्टियां बिताने का प्लान बना रहे हैं तो कोंकण तट का गणपतिपुले बीच एक बहुत अच्छा ऑप्शन हो सकता है। इसके साथ ही यहां आप प्रकृति की खूबसूरती के साथ मंदिरों को भी घूम सकते हैं। यहां स्थित स्वयंभू गणेश के मंदिर में हमेशा श्रद्धालुओं का तांता लगा रहता है। यहां स्थित गणेश भगवान को पश्चिम द्वारदेवता के रूप में भी जाना जाता है।

गणपतिपुले के आसपास क्या देखें

मलगुंड

गणपतिपुले से एक किलोमीटर की दूरी पर स्थित मलगुंड छोटा सा गांव है जो प्रसिद्ध मराठी कवि केशवासूत का जन्मस्थल है। यहां आकर आप इस महान कवि के घर जा सकते हैं जिसे आज छात्रावास में तब्दील कर दिया गया है। मराठी साहित्य परिषद द्वारा बनाये गए कवि केशवासूत का स्मारक भी आप देख सकते हैं।

वेलनेश्वर

अगर आप शांत वातावरण, नारियल के पेड़ों से पटे समुद्र तट की तलाश में हैं तो चले जाएं शास्त्री नदी के उत्तर में बसे खूबसूरत वेलनेश्वर गांव। यहां के पुराने शिव मंदिर पर प्रत्येक महाशिवरात्रि को श्रद्धालुओं की भीड़ इक्टठा होती है।

रत्नागिरी

गणपतिपुले से 25 किलोमीटर दूर स्थित है प्रसिद्ध रत्नागिरी। अरब सागर के तट पर बसा यह शहर बाल गंगाधर तिलक की जन्मभूमि है। रत्नागिरी का नाम का वर्णन पौराणिक कथाओं में भी है। ये वही जगह है जहां पांडवों ने अपना वनवास काटा था। यहां आकर आप रत्नागिरी दुर्ग, थिबाउ महल और बाल गंगाधर तिलक का मकान (इसे अब स्मारक बना दिया गया है) जरूर देखें।

जयगढ़ का किला

गणपतिपुले से करीब 35 किलोमीटर की दूरी पर है जयगढ़ किला। यह संघमेश्वर नदी द्वार पर सीधी चट्टान पर बना हुआ है। 17वीं शताब्दी में बने इस किले से विहंगम समुद्र और कोंकण के ग्रामीण जीवन की पूरी तस्वीर भी दिखती है।

पावस

अगर आप दौड़ती-भागती जिंदगी से थोड़ा फुर्सत निकालकर सुकून की तलाश में हैं तो प्राकृतिक सुंदरता, शांत और निर्मल वातावरण के परिपूर्ण पावस जरूर जाएं। यहां महाराष्ट्र के प्रसिद्ध आध्यात्मिक गुरु स्वामी स्वरूपानंद का आश्रम भी है।

मार्लेश्वर

यहां एक प्रसिद्ध शिव मंदिर और जलप्रपात हैण् गणपतिपुले से मार्लेश्वर की दूरी महज 60 किलोमीटर है। गणपतिपुले से 85 किलोमीटर दूर स्थित यह जगह छत्रपति महाराज शिवाजी पर प्रदर्शनी और शिव सृष्टि के लिए प्रसिद्ध है। गणपतिपुले से 112 किलोमीटर दूर स्थित है परशुराम। यहां स्थित परशुराम मंदिर जरूर देखें।