बर्फबारी के बीच लेना है रोमांस का मजा तो यहां जाएं

Daily news network Posted: 2018-01-11 15:40:11 IST Updated: 2018-01-11 17:18:48 IST
  • अगर आप इस ठंड में बर्फ पर स्कीइंग और आइस स्केटिंग का आनंद उठाना चाहते हैं तो हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला जाने का प्लान बना सकते हैं। इन दिनों यहां आपको बर्फ की चादर ओढ़े पहाड़ियों का मनमोहक दृश्य दिखाई देगा।

शिमला

अगर आप इस ठंड में बर्फ पर स्कीइंग और आइस स्केटिंग का आनंद उठाना चाहते हैं तो हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला जाने का प्लान बना सकते हैं। इन दिनों यहां आपको बर्फ की चादर ओढ़े पहाड़ियों का मनमोहक दृश्य दिखाई देगा। साथ ही आप यहा स्कीइंग और आइस स्केटिंग का मजा भी ले सकते हैं। जबकि दर्शनीय स्थलों की यात्रा और ट्रैकिंग के लिए गरमी का मौसम बेस्ट होता है।

शिमला लगभग 7267 फीट की ऊंचाई पर स्थित है और यह अर्ध चक्र आकार में बसा हुआ है। यहां घाटी का सुंदर दृश्‍य दिखाई देता है और महान हिमालय पर्वती की चोटियां चारों ओर दिखाई देती है।


शिमला एक पहाड़ी पर फैला हुआ है जो करीब 12 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में है। इसके पड़ोस में घने जंगल और टेढ़े-मेढे़ रास्ते हैं, जहां पर हर मोड़ पर मनोहारी दृश्य देखने को मिलते हैं। यह एक आधुनिक व्यावसायिक केंद्र भी है। शिमला विश्व का एक महत्त्वपूर्ण पर्यटन स्थल है।


यहां प्रत्येक वर्ष देश-विदेश से बड़ी संख्या में लोग भ्रमण के लिए आते हैं। बर्फ से ढकी हुई यहां की पहाडि़यों में बड़े सुंदर दृश्य देखने को मिलते हैं जो पर्यटकों को बार-बार आने के लिए आकर्षित करते हैं।



यहां के पर्यटन स्थलों में सबसे पहले हम बात करते हैं यहां के म्यूजियम की- यहां हिमाचल प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों की संस्कृति, परिवेश, लोककलाओं, लघु पहाड़ी चित्रों, पुस्तकों, मुगल, राजस्थानी और समकालीन पेंटिंग्स, विभिन्न कांस्य कलाकृतियां, टिकट संग्रह, मानवविज्ञान संबंधित चीजें देखने को मिलती हैं।



म्यूजियम के बाद हम आपको रिज के बारे में बताते हैं- शहर के बीच में एक बड़ा और खुला स्थान है, जिसे रिज कहते हैं। यहां से पर्वत शृंखलाओं का सुंदर दृश्य देखा जा सकता है। यह शिमला की सभी सांस्कृतिक गतिविधियों का हब है।



अब बारी आती है चैल की- शिमला के निकट बसा एक छोटा सा गांव चैल है। इस के चारों ओर घने वन हैं। यहां से हिमाचल की चोटियों पर हिम को देखा जा सकता है। चैल का सब से आकर्षक क्षेत्र पहाड़ी के ऊपर बना क्रिकेट का मैदान है जिसे विश्व का सब से ऊंचाई वाला स्टेडियम माना जाता है।



अब हम बात करते हैं कुफरी की- यहां की खूबसूरती देखते ही बनती है। यह स्थान शिमला से 16 किलोमीटर दूर 2,510 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। यहां पर कई तरह के बर्फ के खेल खेले जाते हैं। पर्यटकों के लिए यहां स्कीइंग की विशेष व्यवस्था है।



कुफरी के बाद जाखू पहाड़ी के बारे में जानते हैं- यह शिमला से 2 किलोमीटर दूर है जो 2,455 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। यहां से सूर्योदय का दृश्य अत्यंत खूबसूरत दिखाई देता है।



अब बारी आती है चाडविक फौल्स की- शिमला से 7 किलोमीटर दूर 1,586 मीटर की ऊंचाई पर स्थित यह झरना पर्यटकों को खास आकर्षित करता है। अगर आप को पैदल घूमने का शौक है तो समर हिल चौक से लगभग 45 मिनट की पैदल दूरी से यहां पहुंचा जा सकता है। यह हरीभरी झाडि़यों से घिरा एक आकर्षक झरना है।



इसके बाद हम बताते हैं नारकंडा के बारे में- हिंदुस्तानतिब्बत मार्ग पर स्थित नारकंडा के बर्फ से ढकी पर्वत शृंखला के सुंदर दृश्य देखे जा सकते हैं। देवदार के जंगलों से घिरा ऊपर की ओर जाता मार्ग हाटु चोटी तक जाता है।



अब बात करते हैं नालदेहरा के बारे में - यह शिमला से 23 किलोमीटर दूर 2044 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। यहां गोल्फ का मैदान है। अप्रैल-मई का महीना इस जगह को देखने के लिए सब से अच्छा समय है। नालदेहरा पिकनिक स्पौट और घुड़सवारी के लिए भी प्रसिद्ध है।



अब बताते हैं कसौली के बारे में -- कालका-शिमला मार्ग पर स्थित कसौली काफी खूबसूरत है। कसौली में कई दर्शनीय स्थल हैं जहां प्राकृतिक सौंदर्य का नजारा देखा जा सकता है। बलूत, चीड़ और घोड़ों के लिए बनी सुरंगों से संपूर्ण क्षेत्र अत्यंत खूबसूरत लगता है।



कब जाएं- वैसे तो शिमला किसी भी मौसम में घूमने जाया जा सकता है। लेकिन यहां आने का सब से अच्छा समय अप्रैल से जून और अक्तूबर से नवंबर का होता है। अगर आप को बर्फ पर स्कीइंग और आइस स्केटिंग का शौक है तो जनवरी से मार्च मध्य तक का समय अच्छा है। जबकि दर्शनीय स्थलों की यात्रा और ट्रैकिंग के लिए गरमी का मौसम आदर्श होता है।



कैसे जाएं- यहां आप बस से आसानी से पहुंच सकते हैं। दिल्ली से आपको शिमला की बसें मिल जाएंगी। जबकि दिल्ली से यहां की कोई डायरेक्ट ट्रेन नहीं है।