यहां पर मौजूद है घरती का स्वर्ग...

Daily news network Posted: 2018-01-11 19:10:38 IST Updated: 2018-01-11 19:10:38 IST
  • केरल, एक ऐसा राज्य जिसका नाम आते आपके आंखों के सामने भारत के मैप में एक त्रिभुजाकार हिस्सा आता है।

केरल, एक ऐसा राज्य जिसका नाम आते आपके आंखों के सामने भारत के मैप में  एक त्रिभुजाकार हिस्सा आता है। घनी हरियाली आैर पहाड़ों से भरा, नारियल-केले के पेड़ और अरब सागर के लहरों को स्पर्श करती इसकी तट लाजबाव है। आयुर्वेद के खज़ाने से भरे और चन्दन के पेड़ों से सुगन्धित वन केरल के अमूल्य धरोहर हैं। यहां पर टूरिस्ट के लिहाजा सबसे अच्छा आैर आपके दिल को छू जाने वाल तट है कोवलम।


यह समुद्र तट(बीच) तिरुवनंतपुरम के मुख्य शहर से ज्यादा दूर नहीं है। शहर से आपको इस सुरम्य और मनोहारी (बीच) तक पहुँचने के लिए 16 किलोमीटर की दूरी तय करनी पड़ती है। 'कोवलम' मलयालम भाषा से लिया गया एक शब्द है जिसका मतलब है कि 'नारियल के पेड़ों का झाड़-झंखाड़ की तरह उगना। यह नाम इस शहर के लिए बहुत बेहतर है क्योंकि यहाँ नारियल के पेड़ों के छोटे-छोटे जंगल  मिलते हैं। जैसे कश्मीर को इस ‘धरती का स्वर्ग’ कहा जाता है उसी तरह को कोवलम को भी 'दक्षिण के स्वर्ग' के रूप में जाना जाता है।दूसरे बीचों की तरह यहाँ ज्यादा हलचल तो नही मिलेगी आैर न ही आैर  बीच की ही तरह पर्यटक यहाँ भी भीड़ लगती है लकिन  आपको मुख्य रूप से हनीमून मनाने आए कपल मिलेंगे जो कुछ निजी पलों की खोज में इस बीच पर आपको टहलते हुए मिल जाएंगे।


इस शहर का शानदार आैर अनोखे सौंदर्य के बीच जब आप धीमी गति से बढ़ती हुई लहरों के पास गर्म रेत पर टहलते हैं तो आपको जिंंदगी की खूबसूरती को एहसास होगा आैर जिंदगी की खूबसूरती को  बेहतर समझ पाएँगे। वास्तव में हरियाली और शांत नीले रंग का ख़ूबसूरत संयोग आपके दिल को जीतने के लिए  काफी है। कोवलम में तीन मुख्य बीच हैं, और इन बीचों पर जाने का सबसे सही समय, सुबह भोर में या देर शाम को है, क्योंकि इस समय आप उगते हुए या ढलते हुए सूरज का खूबसूरत दृश्य देख सकते हैं। कोवलम के इन बीचों की एक ख़ास बात, यहाँ पाई जाने वाली रेत का रंग है। रेत हल्के काले रंग की है।

कैसे जाए कोवलम-

निकटतम रेलवे स्टेशन : तिरुवनंतपुरम सेंट्रल, लगभग 16 किमी.।

निकटतम हवाई अड्डा: तिरुवनंतपुरम अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा, लगभग 10 किमी.।