मणिपुर: भाजपा विधायक के लव अफेयर के कारण 12 घंटे बंद रहा इंफाल

Daily news network Posted: 2017-06-14 15:58:26 IST Updated: 2017-06-14 15:58:26 IST
मणिपुर: भाजपा विधायक के लव अफेयर के कारण 12 घंटे बंद रहा इंफाल
  • राजधानी इंफाल में स्थित एक इलाके में भाजपा विधायक के लव अफेयर के कारण 12 घंटे का बंद बुलाया गया

इंफाल।

मणिपुर में नाकेबंदी या बंद आम बात है। छोटी छोटी बातों को लेकर यहां राष्ट्रीय राजमार्ग जाम कर दिए जाते हैं। इससे आम लोगों को काफी दिक्कतें झेलनी पड़ती है लेकिन हाल ही में मणिपुर की राजधानी इंफाल में 12 घंटे के बंद की वजह जानकर आप भी चौंक जाएंगे। 



राजधानी इंफाल में स्थित एक इलाके में भाजपा विधायक के लव अफेयर के कारण 12 घंटे का बंद बुलाया गया। समाचार पत्र हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक भाजपा विधायक ने कथित रूप से एक स्थानीय महिला को धोखा दिया। विधायक ने महिला से शादी का वादा किया था।  इस विधायक का नाम है हेईखाम डिंगो सिंह जो सेकमई विधानसभा क्षेत्र से चुनाव जीतकर आए थे।  38 साल के सिंह बैचलर हैं। 




थांगमेईबंद के महिला संगठनों का आरोप है कि सिंह सात साल तक महिला से प्रणय निवेदन करते रहे। बाद में उसे छोड़ दिया। लड़की का कहना है कि 2013 में उसकी शादी सिंह के साथ तय हुई थी लेकिन उनके परिवार में किसी की मौत के कारण शादी टल गई। सिंह का पहला प्यार राजनीति हो गई इसलिए उन्होंने लड़की की तरफ ध्यान देना बंद कर दिया। 



लड़की का कहना है कि मार्च में विधायक बनने के बाद सिंह ने उससे नाता तोड़ दिया। पिछले सप्ताह लड़की के साथ महिलाओं का समूह सिंह के सेकमेई स्थित आवास पर पहुंचा। विधायक के समर्थकों ने उन्हें डरा कर भगा दिया। इसके बाद थंगमेईबंद इलाके में बंद बुलाया गया। सेकमई के स्थानीय संगठनों ने सिंह की छवि को नुकसान पहुंचाने का आरोप लगाते हुए विरोध प्रदर्शन कर जवाब दिया। भाजपा विधायक और पार्टी के नेताओं ने इसे निजी मामाला बताते हुए टिप्पणी से इनकार कर लिया लेकिन लड़की के समर्थक नरम पडऩे के मूड में नहीं है। थंगमेईबंद अपुंबा मेईरा पईबी की फुरीतसबम बिना ने कहा कि हम दोनों  प्रेमियों को साथ लाना चाहते हैं। 



आपको बता दें कि उन उम्मीादवारों ने 48 घंटे मणिपुर बंद बुलाया था जो पिछले साल पुलिस फोर्स में भर्ती के लिए हुए एग्जाम में बैठे थे लेकिन जब भाजपा के नेतृत्व वाली गठबंधन सरकार ने उन्हें 30 मई के कैबिनेट के फैसले के बारे में याद दिलाया तो उम्मीदवारों ने बंद का फैसला वापस ले लिया। 30 मई के कैबिनेट के फैसले के मुताबिक बंद गैर कानूनी और दंडनीय अपराध है। हाल ही में पड़ोसी राज्य मिजोरम के एक जिले ने मणिपुर के विचार को उधार लेते सर्जन के ट्रांसफर के विरोध में राष्ट्रीय राजमार्ग पर नाकेबंदी कर दी थी। 6 जून को कोलासिब जिले में राष्ट्रीय राजमार्ग 306 पर नाकेबंदी की गई थी। सर्जन के ट्रांसफर के विरोध में नाकेबंदी की गई थी। इसके कारण आवश्यक वस्तुओं का संकट उत्पन्न हो गया था। करीब 4 दिन बाद नाकेबंदी खत्म की गई थी।