योगी सरकार के लिए असम पुलिस करेगी ऐसा काम, जानिए क्या

Daily news network Posted: 2017-10-13 09:20:46 IST Updated: 2017-10-13 09:20:46 IST
योगी सरकार के लिए असम पुलिस करेगी ऐसा काम, जानिए क्या
  • प्रदेश की राजधानी में एक बार फिर बांग्लादेशियों के खिलाफ पुलिस और खुफिया एजेंसियां सर्तक हो गई हैं।

लखनऊ।

प्रदेश की राजधानी में एक बार फिर बांग्लादेशियों के खिलाफ पुलिस और खुफिया एजेंसियां सर्तक हो गई हैं। इसके लिए असम पुलिस के साथ मिलकर अभियान शुरु कर दिया गया है। लखनऊ पुलिस पूर्व में तैयार की गई संदिग्धों की सूची को जहां फिर से तैयार करने में जुट गई है, वहीं असम पुलिस ने तीन पीढ़ी पहले के दस्तावेजों से इनके पहचान को फिल्टर करना शुरू कर दिया है।


राजधानी समेत प्रदेश के कई जिलों में संदिग्ध बांग्लादेशी खुद को असमी बताकर जमे हुए हैं। खाना बदोस जीवन जीने वाले संदिग्ध बांग्लादेशी ठिकाने बदल-बदल कर रहने के आदी हैं। आतंकी गतिविधियों से लेकर आपराधिक घटनाओं में भी इनकी भूमिका सामने आ रही है. इसीलिए इनको प्रदेश की कानून व्यवस्था के लिए खतरा माना जा रहा है।


सीएम योगी आदित्यनाथ ने भी पुलिस व खुफिया एजेंसियों की रिपोर्ट के बाद बांग्लादेशियों को प्रदेश से खदेडऩे के निर्देश दे दिए हैं। सीएम का निर्देश मिलने के बाद खुफिया एजेंसियों से लेकर लोकल इंटेलीजेंस और पुलिस ने भी बांग्लादेशियों की तलाश के लिए होमवर्क शुरू कर दिया है।


बता दें कि पुलिस के रिकॉर्ड के मुताबिक प्रदेश में एक भी बांग्लादेशी नहीं रह रहे हैं, दरअसल यह लोग खुद को असमी बताकर ठिकाने बनाए हुए हैं। इसीलिए इनकी पहचान पुख्ता करने की प्रक्रिया तेज कर दी गई है। इसको लेकर असम पुलिस से भी संपर्क किया गया है। मामले की छानबीन से जुड़े एक अधिकारी ने बताया कि असमी बताने वालों का दावा जांचने के लिए असम पुलिस ने नया तरीका अपनाया है। असम पुलिस ऐसे लोगों की पहचान उनकी पिछली तीन पीढिय़ों के आधार पर कर रही है। तीसरी पीढ़ी से अगर उनका जुड़ाव मिलता है तो उन्हें असमी माना जाएगा, वरना उनका दावा खारिज कर उन्हें बांग्लादेशी करार दिया जा सकता है।