हिजाब पहनने वालों को नौकरी से निकाल सकती है कंपनियां

Daily news network Posted: 2017-03-14 19:01:33 IST Updated: 2017-10-13 19:29:07 IST
हिजाब पहनने वालों को नौकरी से निकाल सकती है कंपनियां
  • यूरोपियन कोर्ट ऑफ जस्टिस ने मंगलवार को फैसला दिया कि यूरोप में कंपनियां ऐसे कर्मचारियों को अपने यहां काम करने से रोक सकती है

लग्जमबर्ग।

यूरोपियन कोर्ट ऑफ जस्टिस ने मंगलवार को फैसला दिया कि यूरोप में कंपनियां ऐसे कर्मचारियों को अपने यहां काम करने से रोक सकती है जो धर्म से जुड़े किसी भी संकेत को इस तरह पहनकर आते हैं कि वह साफ तौर पर दिखे। हिजाब पहनकर दफ्तर आने वाली महिला कर्मचारियों से जुड़े मामले पर कोर्ट ने यह फैसला दिया है।


दरअसल यह फैसला फ्रांस और बेल्जियम की उन दो महिलाओं से जुड़े मामले में संयुक्त रूप से दिया गया है जिसमें महिलाओं को इसलिए नौकरी से निकाल दिया गया था क्योंकि उन्होंने अपना हिजाब उतारने से इनकार कर दिया था। कोर्ट का यह फैसला ऐसे वक्त आया है जब नीदरलैंड में होने वाले चुनाव में मुस्लिम प्रवासियों का मसला काफी पुरजोर तरीके से उठाया जा रहा है और पूरे यूरोप में प्रवासियों और शरणार्थी नीतियों को लेकर चर्चा हो रही है।


कोर्ट ने फैसले में कहा,किसी कंपनी का अंदरूनी नियम जो किसी भी राजनीतिक,दार्शनिक और धार्मिक संकेत को पहनने से रोक लगाता है उसे सीधा भेदभाव नहीं माना जा सकता। हालांकि कोर्ट ने यह भी कहा कि किसी कस्टमर की इच्छा पर कंपनी ऐसे फैसले नहीं कर सकती। फैसले के मुताबिक अगर कंपनी किसी भी प्रकार की ऐसी चीजों के पहनने पर पाबंदी लगाती है तो इसे भेदभाव नहीं माना जा सकता।