डोकलाम पर समझौता नहीं, भारत सेना हटाए: चीनी मीडिया

Daily news network Posted: 2017-07-16 15:12:52 IST Updated: 2017-07-16 15:12:52 IST
डोकलाम पर समझौता नहीं, भारत सेना हटाए: चीनी मीडिया
  • चीन की सरकारी न्यूज एजेंसी शिन्हुआ का कहना है कि सिक्कम इलाके में मौजूद डोकलाम पर कोई समझौता नहीं होगा

बीजिंग।

सिक्किम बॉर्डर के पास भारत और चीन के बीच तनातनी जारी है। इस बीच चीन की सरकारी न्यूज एजेंसी शिन्हुआ का कहना है कि सिक्कम इलाके में मौजूद डोकलाम पर कोई समझौता नहीं होगा। भारत बॉर्डर से अपनी फौज हटाए, तभी इस मुद्दे पर बातचीत मुमकिन है। दरअसल, चीन के साथ तनातनी खत्म करने के लिए भारतीय विदेश मंत्रालय ने डिप्लोमेटिक चैनल इस्तेमाल करने की बात कही थी। चीनी मीडिया इसी का जवाब दिया है। 


चीन की स्टेट काउंसिल के तहत काम करने वाली और ऑफिशियल प्रेस एजेंसी शिन्हुआ के आर्टिकल में लिखा गया है कि चीन के लिए बॉर्डर लाइन ही बॉटम लाइन है। यानि, बॉर्डर को लेकर कोई समझौता नहीं हो सकता। चीनी की सरकारी मीडिया ने यह लाइन पहली बार इस्तेमाल नहीं की है। पिछले हफ्ते भी शिन्हुआ और कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ चाइना के अखबार पीपुल्स डेली ने अपने एडिटोरियल्स में इसका इस्तेमाल किया था।


आर्टिकल में यह भी लिखा है, डोकलाम में बॉर्डर क्रॉस करने वाली फौज को वापस बुलाने की चीन की मांग को भारत लगातार अनसुना कर रहा है। "हालांकि, चीन की बात न मानने वाले उसके रवैये से मामला तूल पकड़ेगा और अखिरी में भारत को शर्मिंदा होना पड़ेगा।  शिन्हुआ ने लिखा है, भारत को मौजूदा हालात को पहले दो बार 2013 और 2014 में लद्दाख के पास बने हालात की तरह नहीं देखना चाहिए। भारत, पाकिस्तान और चीन के बीच साउथ ईस्ट कश्मीर का यह इलाका (लद्दाख) विवादित है। उस वक्त डिप्लोमेटिक कोशिशों से दोनों देशों की फौजों के बीच टकराव को सुलझा लिया गया था, लेकिन इस बार मामला पूरा अलग है।


देशों के बीच मौजूदा गतिरोध बीते तीन दशकों में सबसे लंबा माना जा रहा है। यह 18 जून से शुरू हुआ था। उस वक्त चीन ने आरोप लगाया था कि भारत बॉर्डर एग्रिमेंट के खिलाफ चला गया है। भारतीय सैनिक बॉर्डर क्रॉस करके डोकलाम में घुस आए हैं और चीनी सैनिकों को रोड बनाने से रोक दिया है। उनका कहना था कि इलाके में अभी बॉर्डर तय नहीं है, इसलिए चीन मौजूदा स्थित में बदलाव न करे।