जानिए भारत के लिए क्यों इतनी अहमियत रखता है भूटान

Daily news network Posted: 2017-08-12 17:17:33 IST Updated: 2017-08-12 17:17:33 IST
जानिए भारत के लिए क्यों इतनी अहमियत रखता है भूटान
  • भूटान का डोकलाम इलाका सामरिक रूप से भारत के लिए बेहद अहम है। अगर चीन यहां सड़क बनाने में कामयाब होता है

नई दिल्ली। भूटान का डोकलाम इलाका सामरिक रूप से भारत के लिए बेहद अहम है। अगर चीन यहां सड़क बनाने में कामयाब होता है तो उसके लिए भारत के चिकन नेक कहे जाने वाले सिलीगुड़ी तक पहुंच काफी आसान हो जाएगी। भूटान के साथ भारत के खास रिश्ते हैं और 1949 की संधि के मुताबिक ये विदेशी मामलों में भारत सरकार की सलाह से निर्देशित होगा,ये संधि 2007 में दोहराई गई। संधि के मुताबिक भूटान के भू-भाग के मामलों को देखना भी भारत की जिम्मेदारी है। इसके अलावा नेपाल की तरह भूटान का भी 90 फीसदी से अधिक व्यापार भारत के जरिए होता है। भारत द्वारा भूटान को सबसे अधिक आर्थिक सहायता दी जाती है।

इसमें रोजमर्रा की जरूरत की करीब करीब हर चीज जैसे कपड़े,खाने-पीने की चीजें, निर्माण सामग्री,सुई से लेकर कार तक शामिल है। आपको बता दें कि 2013 में भूटान आम चुनाव से पहले भारत ने गैस सब्सिडी को वापस ले लिया जिसके कारण भूटान में चुनाव प्रक्रिया के बीच अचानक आर्थिक संकट पैदा हो गया था। इसके अलावा भूटान की भौगोलिक परिस्थिति भी उसे भारत के लिए बेहद खास बनाती है। भूटान में हाईड्रो पावर जनरेशन की बेहतरीन संभावनाएं हैं। भारत ,भूटान की मदद से अपनी बिजली की जरूरतों को पूरा करना चाहता है।

यही कारण है कि वहां के हाईड्रो पावर प्रोजेक्ट्स में लगातार पैसा बहा रहा है। इसके अलावा भूटान के पास अपनी कोई नौसेना और वायुसेना भी नहीं है। भूटान की थलसेना का नाम रॉयल भूटान आर्मी है।

साल 2003 में असम के अलगाववादी संगठन उल्फा के खिलाफ रॉयल भूटान सेना ने ऑपरेशन ऑल क्लियर चलाया था। इस सैन्य अभियान में रॉयल भूटान सेना ने उल्फा के सारे कैंप नष्ट कर दिए थे और सभी उग्रवादियों को देश से बाहर निकाल दिया था। इसके अलावा भूटान जाने के लिए भी भारतीयों को किसी प्रकार के वीजा की जरूरत नहीं होती।