आपके पास है बाइक या कार तो होगा बड़ा फायदा, जानिए कैसे

Daily news network Posted: 2017-04-18 14:53:12 IST Updated: 2017-04-18 14:53:12 IST
आपके पास है बाइक या कार तो होगा बड़ा फायदा, जानिए कैसे
  • बीमा नियामक इरडा ने वाहनों के थर्ड पार्टी बीमा के प्रीमियम रेट 3 हफ्ते बाद ही घटा दिए

मुंबई।

बीमा नियामक इरडा ने वाहनों के थर्ड पार्टी बीमा के प्रीमियम रेट 3 हफ्ते बाद ही घटा दिए। इस संबंध में अधिसूचना जारी की गई है। नई दरें टू-व्हीलर,कार और ट्रकों पर लागू होंगी। 1,000 सीसी तक की कारों के प्रीमियम में कोई बदलाव नहीं किया गया है। मोटर गाडिय़ों और दो पहिया वाहनों पर थर्ड पार्टी इंश्योरेंस का प्रीमियम 40 फीसदी बढ़ाया गया था। इसको लेकर काफी बवाल हुआ था। जिसके बाद फैसले में फेरबदल किया गया। अब यह बढ़ोतरी केवल 16 से 28 प्रतिशत के बीच ही होगी। नई दरें 1 अप्रेल से प्रभावी मानी जाएंगी। 


कितना घटा प्रीमियम

मीडियम कारों(1001 सीसी से 1500सीसी)के लिए प्रीमियम को घटाकर 2,863 रुपए कर दिया गया है। 28 मार्च को इसे 3,132 रुपए रखने की घोषणा की गई थी। 1500 सीसी से अधिक इंजन क्षमता की कारों के लिए प्रीमियम की दर को 8,630 से घटाकर 7,890 रुपए कर दिया गया है। 1000 सीसी की कारों के लिए प्रीमियम 2055 रुपए था,अब भी यही है। 150 सीसी या अधिक की इंजन क्षमता वाले दो पहिया वाहनों के लिए प्रीमियम दरें घटाई गई है। 151 से 1350 सीसी की इंजन क्षमता वाले टू व्हीलर का प्रीमियम 970 रुपए से घटाकर 887 रुपए किया गया है। 75 सीसी तक की इंजन क्षमता वाले टू व्हीलर का पहले प्रिमियम 569 रुपए था। अब भी यही है। 76 से 150 सीसी तक की क्षमता वाले टू व्हीलर की प्रीमियम दरों में भी कोई बदलाव नहीं किया गया है। पहले 720 रुपए प्रीमियम था। अब भी यही है। 


क्या होता है थर्ड पार्टी इंश्योरेंस

बाइक,कार,ट्रक या किसी भी मोटर इंश्योरेंस के दो भाग होते हैं। पहला थर्ड पार्टी कवर और ओन डैमेज कवर। अगर आपकी गाड़ी से टकराकर किसी की जान माल का नुकसान हो जाए तो उसकी भरपाई थर्ड पार्टी कवर से होता है। ओन डैमेज कवर आपकी अपनी गाड़ी या खुद के नुकसान की भरपाई के लिए है। दोनों इंश्योरेंस मिलाकर कॉम्प्रिहैंसिव कवर कहलाता है। अगर कोई ओन डैमेज कवर ना ले तो भी उसे थर्ड पार्टी कवर हर हाल में लेना होता है। इसका प्रीमियम गाड़ी के मॉडल,पावर(सीसी),कीमत और कई अन्य चीजों पर निर्भर करता है। 


क्या नहीं होता कवर

1.मकैनिकल और इलेक्ट्रिकल ब्रेकडाउन

2.किसी ऐसे शख्स का या उसके द्वारा डैमेज,जिसके पास वैलिड ड्राइविंग लाइसेंस न हो

3.शराब या ड्रग्स के सेवन वाले व्यक्ति का या उसके द्वारा किया गया डैमेज

4.युद्ध,विद्रोह या न्यूक्लियर रिस्क में

5.लिमिटेशंज ऑफ यूज के उल्लंघन पर यानी अगर पर्सनल कार का इस्तेमाल टैक्सी के तौर पर हो रहा हो तब


क्लेम गाइडेंस

1.अपने इंश्योरेंस प्रतिनिधि या कंपनी को घटना की सूचना जल्द से जल्द दें

2.इंश्योरेंस कंपनी क्लेम के पहले घटना का सबूत मांगती है

3.एफआईआर,मेंटेनेंस बिल,मेडिकल बिल जरूर लें

4.इंश्योरेंस कंपनी को जांच करने का मौका दें