मोदी के इस मंत्री ने चीन को लगाई लताड़, कहा ब्रह्मपुत्र कोई नाला नहीं है

Daily news network Posted: 2017-12-07 11:19:24 IST Updated: 2017-12-07 11:27:21 IST
मोदी के इस मंत्री ने चीन को लगाई लताड़, कहा ब्रह्मपुत्र कोई नाला नहीं है
  • अरुणाचल प्रदेश की लाइफ लाइन कही जाने वाली सियांग नदी के बाद अब असम की ब्रह्मपुत्र नदी का पानी भी कला दिखाई देने लगा है

गुवाहाटी

अरुणाचल प्रदेश की लाइफ लाइन कही जाने वाली सियांग नदी के बाद अब असम की ब्रह्मपुत्र नदी का पानी भी कला दिखाई देने लगा है आैर अब यह पीने लायक नहीं रह गया है। इस पर चीन का कहना है कि ब्रह्मपुत्र को डायवर्ट कर दिया जाए, जिस पर केंद्रिय राज्य मंत्री किरेन रिजीजू ने कहा है कि ब्रह्मपुत्र कोर्इ नाला नहीं है,  जिसे जब चाहा तब डायवर्ट कर दिया । 


मीडिया में आर्इ खबरों का यह दावा है कि चीन ने झिन्झियांग प्रान्त से तक्लामकान डिजर्ट तक सियांग का पानी मोड़ने के लिए करीब एक हजार किमी की सुरंग बनार्इ है। यही वजह है कि अरूणांचल प्रदेश होकर बहने वाले सियांग नदी का पानी किचड़युक्त हो गया है। जिसका असर असम से होकर गुजरने वाली नदी ब्रह्मपुत्र में भी देखने को मिल रहा है। इस बीच में असम के वित्त , स्वास्थ्य आैर शिक्षा मंत्री हिमंत विश्व शर्मा ने भी यह अाशंका जतार्इ है कि ब्रह्मपुत्र नदी का पानी काला हाेने के पीछे चीन में बन रही परियोजनाए हैं। 



नर्इ दिल्ली में मीडिया ने जब  केंद्रीय ग्रह मंत्री से इस पर सवाल किया तो उन्होंने कहा ब्रह्मपुत्र कोर्इ नाला नहीं है जिसे कभी भी डायवर्ट कर दिया जाएगा।उन्होंने यह भी कहा कि भारत सरकार अभी भी इस मामले में अध्ययन कर रही है आैर गंदे पानी के बारे में जांच कर रही है कि आखिर पानी काला क्यों हो रहा है। अब सही स्थिति का पता तो जांच के बाद ही चल पाएगा क्योंकि असलियत क्या है अभी भी इसका पता नहीं चल पाया है। 



रिजिजु ने अपनी राय देते हुए कहा है कि लोगो को एेसा नहीं करना चाहिए । ब्रह्मपुत्र को डायवर्ट करना इतना आसान नहीं इसमें बहुत समय लगेगा क्योंकि यह काम इतना जल्दी नहीं किया जा सकता है।  आपको बता दें की सियांग नदी दक्षिणी तिब्बत में यारलुंग सांगपो नाम से बहती है और असम में ब्रह्मपुत्र बन जाती है। इसे अरुणाचल प्रदेश में सियांग कहा जाता है।