असम : कृत्रिम बाढ़ के नाम पर बयानबाजी शुरू, बीमारी का निवारण बताएं डा. हिमंत : रकिबुल

Daily news network Posted: 2017-06-20 12:30:50 IST Updated: 2017-06-20 12:30:50 IST
असम : कृत्रिम बाढ़ के नाम पर बयानबाजी शुरू, बीमारी का निवारण बताएं डा. हिमंत : रकिबुल
  • पिछले दिनों आई कृत्रिम बाढ़ की चपेट में आकर मारे गए आधा दर्जन लोगों के परिजनों के आंसू अभी सूखे भी नहीं है कि कृत्रिम बाढ़ को लेकर राजनीतिक बयानबाजी शुरू हो गई है

ASSAM

गुवाहाटी । पिछले दिनों आई कृत्रिम बाढ़  की चपेट में  आकर  मारे गए आधा दर्जन लोगों के परिजनों के आंसू अभी सूखे भी नहीं है कि कृत्रिम बाढ़ को  लेकर राजनीतिक बयानबाजी शुरू हो गई है । गुवाहाटी महानगर विकास विभाग के मंत्री डॉ  हिमंत्त विश्व शर्मा ने कृन्निम बाढ़ को एक जटिल  समस्या बताते हुए इसके लिए पडोसी राज्य मेघालय से आने वाले बरसाती पानी को जिम्मेदार ठहराया है । 


डा शर्मा के उक्त बयान पर टिप्पणी करते  हुए कांग्रेस के वरिष्ठ नेता रकिबुल हुसैन ने कहा कि डा. शर्मा  ने बीमारी तो बता दी, मगर दवा की बात नहीं की श्री हुसैन ने कटाक्ष करते हुए कहा कि स्वयं  को पूर्वोत्तर का विशेषज्ञ बताने वाले और मणिपुर में विधायको की संख्या को घटाने बढ़ाने वाले डा. शर्मा को कृत्रिम बाढ़ से  निपटने की दवा के बारे  में जरूर बताना चाहिए।

इधर, भाजपा सांसद विजया चक्रवर्ती ने  कहा है कि महानगर के नाले नालियों  व्यवस्था  होते ही कृत्रिम बाढ़  की समस्या का समाधान भी हो जाएगा । उन्होंने कहा कि जब गुवाहाटी स्मार्ट सिटी बनेगी तो नाले भी ठीक  होंगें । इसके लिए कम से कम दो साल चाहिए। 



सांसद ने  बताया कि गुवाहाटी स्मार्ट सिटी के लिए विस्तृत परियोजना रिपोर्ट (डीपीआर) बनाई जा चुकी है और केंद्र सर्कार  द्वारा इस मद में बहुत जल्द जरूरी धनराशि का आबंटन किया जाएगा । भाजपा सांसद ने कहा कि कृत्रिम बाढ़  की पीडा से निजात पाने के लिए महानगर वासियो  को  और कुछ दिनों तक इंतजार करना पड़ेगा।