दूसरे दौर की बाढ़ से असम-अरुणाचल में भारी तबाही

Daily news network Posted: 2017-08-12 13:44:05 IST Updated: 2017-08-12 13:44:05 IST
दूसरे दौर की बाढ़ से असम-अरुणाचल में भारी तबाही
  • असम और अरुणाचल प्रदेश में चौबीस घंटे के भीतर बाढ़ ने देखते ही देखते फिर विकराल रूप धारण कर लिया है। ताजा बाढ़ ने असम और अरुणाचल प्रदेश में भीषण तबाही मचाई है।

गुवाहाटी।

असम और अरुणाचल प्रदेश में चौबीस घंटे के भीतर बाढ़ ने देखते ही देखते फिर विकराल रूप धारण कर लिया है। ताजा बाढ़ ने असम और अरुणाचल प्रदेश में भीषण तबाही मचाई है। 



दूसरे दौर में प्रभावित जिलों की संख्या बढ़कर 19 हो गई है। अरुणाचल प्रदेश का संपर्क अनेक जगहों पर पुलों व सड़कों के बह जाने के कारण सड़क मार्ग से शेष देश से संपर्क कट गया है।



असम के 15 जिलों के 45 राजस्व क्षेत्रों के 781 गांव सरकारी तौर पर ब्रह्मपुत्र और उसकी सहायक नदियों की बाढ़ की चपेट में आ गए हैं। साढ़े तीन लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं। 



इस बीच मौसम विभाग ने अगले तीन दिन तक असम सहित पूर्वोत्तर राज्यों के अधिकांश इलाकों में भारी बारिश की चेतावनी दी है।



असम राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के मुताबिक राज्य के धेमाजी, लखीमपुर, विश्वनाथ, बाग्सा, बरपेटा, बंगाईगांव, चिरांग, कोकराझाड़, धुबड़ी, जोरहाट, माजुली, शिवसागर, चराईदेउ, डिब्रूगढ़ और तिनसुकिया जिले बाढ़ग्रस्त हो चुके हैं। 



ब्रह्मपुत्र, बूढ़ीदिहिंग, धनश्री, जियाभराली, पुठिमारी और संकोष नदियां कई स्थानों पर खतरे के निशान से ऊपर बह रही है। अब तक 19 हजार 481.84 हेक्टेयर कृषि भूमि बाढ़ प्रभावित है।



कोकराझाड़ जिले में बाढ़ और भू-कटाव की वजह से एक सड़क के टूटने की जानकारी मिली है। जिले की सभी प्रमुख छह नदियों का जलस्तर खतरे के निशान को पार कर गया है। कोकराझाड़ राजस्व क्षेत्र के पांच और दोतमा के 15 गांव जलमग्न हो गए हैं।