मेघालय में कांग्रेस के मुख्यमंत्री के बारे में हुआ चौंकाने वाला खुलासा!

Daily news network Posted: 2017-05-19 13:23:50 IST Updated: 2017-05-19 13:23:50 IST
मेघालय में कांग्रेस के मुख्यमंत्री के बारे में हुआ चौंकाने वाला खुलासा!
  • मेघालय के मुख्यमंत्री मुकुल संगमा पर गंभीर आरोप लगा है। उन पर आगामी विधानसभा चुनाव में उग्रवादी संगठन से समर्थन मांगने का आरोप लगा है।

शिलॉन्ग।

मेघालय के मुख्यमंत्री मुकुल संगमा पर गंभीर आरोप लगा है। उन पर आगामी विधानसभा चुनाव में उग्रवादी संगठन से समर्थन मांगने का आरोप लगा है। यह आरोप मेघालय के प्रतिबंधित उग्रवादी संगठन एचएनएलसी ने लगाया है। एचएनएलसी ने गुरुवार को दावा किया कि राज्य के मुख्यमंत्री मुकुल संगमा ने 2018 के विधानसभा चुनाव में संगठन से समर्थन मांगा है। 



एचएनएलसी की ओर से गुरुवार को जारी किए गए बयान में दावा किया गया कि 2018 के विधानसभा चुनाव में संगठन से समर्थन मांगने के अलावा कांग्रेस के मुख्यमंत्री डॉ कमुकुल संगमा के पास कोई विकल्प नहीं है। एचएनएलसी के पब्लिसिटी सेक्रेटरी एस. नोंगट्रॉव ने कहा कि आगामी विधानसभा चुनाव में पूरे खासी और जेंतिया हिल्स में कांग्रेस उम्मीदवारों का समर्थन करने के लिए संगमा ने पिछले सप्ताह हमारे संगठन के पास भेदिये भेजे थे। गौरतलब है कि मेघालय की सरकार पूर्व में एचएनसीएल के साथ शांति वार्ता की पहल करने की अनिच्छुक रही है। 




नोंगक्राव ने कहा कि इससे लगता है कि मुकुल संगमा अब उनके साथ बार्गिन करना चाहते हैं। हमें कहा गया कि अगर हम शांति प्रक्रिया शुरू करना चाहते हैं तो हमें विधानसभा चुनाव में कांग्रेस का समर्थन करना होगा ताकि मुकुल संगमा फिर से राज्य के मुख्यमंत्री बन जाएं। एचएनएलसी ने खुले रूप से बयान जारी कर कहा कि वे इस तरह की कोशिशों से मूर्ख नहीं बनेंगे। हम मुकुल संगमा के राजनीतिक फायदे के लिए खुद को इस्तेमाल नहीं होने देंगे। पिछले विधानसभा चुनाव में उन्होंने गारो हिल्स में भी यही किया था। 



एचएनएलसी के पब्लिसिटी सेक्रटरी ने कहा कि हम मुकुल संगमा से बार्गिन करने की बजाय अपने संघर्ष को तेज करेंगे। एचएनएलसी का कहना है कि मुकुल संगमा अकेले मेघालय के प्रोपराइटर नहीं है। वह सिर्फ निर्दिष्ट किए हुए टाइमफ्रैम के लिए मुख्यमंत्री हैं। एचएनसीएल ने मुकुल संगमा के डाउनफॉल की भविष्यवाणी करते हुए कहा कि संगमा स्वार्थी और घमंडी है। उनके डाउनफॉल की यही वजहें हैं। नोंगट्रॉव ने कहा कि मुकुल संगमा मुख्यमंत्री नहीं है बल्कि वह सिर्फ अमपाति निर्वाचन क्षेत्र के प्रतिनिधि हैं। उन्होंने मुकुल संगमा पर राज्य के विकास में कमी खासतौर पर गारो हिल्स के लिए जिम्मेदार ठहराया है। 



नोंगट्राव ने कहा कि संगमा को न तो खासी की चिंता है और न ही जेंतिया हिल्स की। गारो हिल्स में अभी भी कई अंडरडेवलप इलाके हैं लेकिन संगमा की मुख्य चिंता सभी योजनाएं और डेवलपमेंटल गतिविधियां अमपाति में ले जाने की है। एचएनएलसी ने चेतावनी दी है कि मुकुल संगमा के कहने पर विधानसभा चुनाव के दौरान किसी निर्लज्ज व्यक्ति ने एचएनएलसी के नाम का दुरुपयोग किया तो उसे गंभीर परिणाम भुगतने होंगे। मेघालय में उग्रवादियों और नेताओं का गठजोड़ गंभीर चिंता का विषय है। अगर एचएनएलसी की ओर से लगाए गए आरोपों में कोई सच्चाई है तो यह राज्य में डेमोक्रेटिक सेटअप के लिए चिंता का विषय होने वाला है। आपको बता दें कि ऐसा पहली बार नहीं हुआ है जब कांग्रेस पर इस तरह के आरोप लगे हैं। कुछ साल पहले कांग्रेस नेता देबोराह मराक पर  2013 के विधानसभा चुनाव में जीएनएल से समर्थन मांगने का आरोप लगा था।