राहुल गांधी के अध्यक्ष बनने से पहले कांग्रेस को लगा तगड़ा झटका

Daily news network Posted: 2017-12-05 15:29:39 IST Updated: 2017-12-05 15:29:39 IST
राहुल गांधी के अध्यक्ष बनने से पहले कांग्रेस को लगा तगड़ा झटका
  • राहुल गांधी अभी कांग्रेस के अध्यक्ष बने भी नहीं है उससे पहले मेघायल में पार्टी को एक के बाद एक झटके लग रहे हैं।

शिलॉन्ग।

राहुल गांधी अभी कांग्रेस के अध्यक्ष बने भी नहीं है उससे पहले मेघायल में पार्टी को एक के बाद एक झटके लग रहे हैं। सोमवार को कांग्रेस के वरिष्ठ विधायक कोमिंगोन वाई. ने ऊर्जा मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया। कोमिंगोन ने आरोप लगाया कि राज्य के मुख्यमंत्री मुकुल संगमा को दूसरों पर हावी होने की आदत है। आपको बता दें कि कोमिंगोन से पहले दो निर्दलीय विधायक रोबिनुस एस और रोफुल मराक कांग्रेस के नेतृत्व वाली मेघायल यूनाइटेड अलायंस सरकार से समर्थन वापस ले चुके हैं। जिस वक्त कोमिंगोन ने मंत्री पद से इस्तीफा देने की घोषणा की उस समय मुख्यमंत्री मुकुल संगमा मेघालय प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष डी.डी.लपांग के साथ दिल्ली में थे। वे कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए राहुल गांधी की उम्मीदवारी के समर्थन के लिए दिल्ली में थे। शिलॉन्ग लौटकर मुख्यमंत्री मुकुल संगमा राजनीतिक घटनाक्रम का जायजा लेंगे।

कोमिंगोन ने कहा, चूंकि मैंने मुख्यमंत्री में विश्वास खो दिया है इसलिए मैंने अपना इस्तीफा दे दिया।  आपको बता दें कि कोमिंगोन को 4 अगस्त को कैबिनेट में शामिल किया गया था। कोमिंगोन ने कहा, मेरे चार माह के दौरान कैबिनेट मंत्री के रूप में मुझे उनकी दूसरों पर हावी होने की आदत के बारे में पता चला। वे उस विभाग के कार्यक्रमों पर अकेले फैसले ले रहे थे जो मेरे पास था। ऐसे में मंत्री बने रहने का क्या मतलब है? दरअस कोमिंगोन का इस्तीफा सत्तारुढ़ कांग्रेस के लिए मेघालय विधानसभा के आखिरी सत्र से पहले तगड़ा झटका है।

नौंवी मेघालय विधानसभा का तीन दिवसीय सत्र 8 दिसंबर से शुरू होगा। पूर्व मंत्री ने कहा कि आने वाले दिनों में मैं कांग्रेस पार्टी से भी इस्तीफा दे दूंगा। रालियांग विधानसभा सीट से दो बार कांग्रेस के विधाायक नेशनल पीपुल्स पार्टी के टिकट पर आगामी विधानसभा चुनाव लड़ सकते हैं। कांग्रेस के चार विधायक रॉवेन लिंगदोह, प्रेस्टोन टी, एस.धर और एन.धर के अलावा निर्दलीय विधायक होपफुल बामोन और स्टीफेनसन मुखिम आगामी विधानसभा चुनाव एनपीपी के टिकट पर लड़ सकते हैं। मेघालय में अगले साल फरवरी में विधानभा चुनाव प्रस्तावित है।