मेघालय: 2 साल तक दो नाबालिग बहनों को अपनी हवस का शिकार बनाता रहा मामा

Daily news network Posted: 2017-06-15 13:13:17 IST Updated: 2017-06-15 13:13:17 IST
मेघालय: 2 साल तक दो नाबालिग बहनों को अपनी हवस का शिकार बनाता रहा मामा
  • ईस्ट खासी हिल्स के एक गांव में कलयुगी मामा दो साल तक अपनी ही भांजियों को हवस का शिकार बनाता रहा

शिलॉन्ग।

मेघालय से रिश्तों को शर्मसार करने वाली घटना सामने आई है। ईस्ट खासी हिल्स के एक गांव में कलयुगी मामा दो साल तक अपनी ही भांजियों को हवस का शिकार बनाता रहा। जिस गांव की यह घटना है वह शिलॉन्ग से कुछ ही किलोमीटर दूर स्थित है।


घटना के बारे में बुधवार को पुलिस को जानकारी मिली। पुलिस थाने में दर्ज कराई गई एफआईआर के मुताबिक पीडि़ताएं 12 और 15 साल की है। दो साल पहले उनकी मां का देहांत हो गया था। इसके बाद वे घृणित अपराध की शिकार हुई। सीएसडब्ल्यूओ के अध्यक्ष ए.खारसिंग की ओर से दर्ज कराई

गई एफआईआर के मुताबिक दो नाबालिग बहनों से उनके मामा बुुनसिंह रिम्बई ने कई बार बलात्कार किया।


एफआईआर के मुताबिक आरोपी ने नाबालिग बहनों से घर पर भी बलात्कार किया था। आरोपी तभी नाबालिग बहनों को अपनी हवस का शिकार बनाता जब वे सो रही होती थी। 15 साल की किशोरी जब नहा रहा होती तब उसका मामा जबरन बाथरुम में घुस जाता था। 12 साल की पीडि़ता मानसिक रुप से विक्षिप्त है, इस कारण आरोपी उसे आसानी से अपना शिकार बना लेता था। बड़ी बहन ने एक बार अपने मामा को छोटी बहन के साथ आपत्तिजनक स्थिति में देख लिया था। इसके

  बाद से सभी एक ही घर में रहने लगे जो उनकी दादी का था।


दोनों के लिए घटना के बारे में किसी को जानकारी देना काफी मुश्किल था। आरोपी अपनी पत्नी से अलग रह रहा था। वह उसी घर में अपनी मां के साथ रह रहा था। जब दर्द असहनीय हो गया तो बड़ी बहन ने अपनी दादी को जानकारी दी। हालांकि दादी को उसकी बातों पर यकीन नहीं हुआ। डरी हुई बहनों के पास अपना दर्द बयां करने के लिए कोई नहीं था।


पीडि़ताओं का पिता दिहाड़ी मजदूर है। वह अपनी मां के साथ शिलॉन्ग के मावप्रेम में रहता है क्योंकि उसकी तबीयत खराब रहती है। अपनी मां के  देहांत के तुरंत बाद पीडि़ताओं का पिता दो महीने के लिए अपने बच्चे के साथ ससुराल वालों के घर में रहा लेकिन सेहत खराब होने के कारण उसे वहां से जाना पड़ा। पिता अपने बच्चे के साथ ही रहता था लेकिन बड़ी बेटी अपने पिता को घटना के बारे में जानकारी देने की हिम्मत नहीं जुटा पाई क्योंकि उसे डर था कि वह उसके अंकल से झगड़ा कर लेंगे।



एफआईआर के मुताबिक आरोपी दोनों पीडि़ताओं को पीटता भी था। अपनी और अपनी छोटी बहन की जिंदगी के खातिर 15 साल की किशोरी ने सीएसडब्ल्यूओ के अध्यक्ष को घटना के बारे में जानकारी दी। उन्होंने तुरंत पुलिस थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई। सीएसडब्ल्यूओ के अध्यक्ष ए.खाराशिंग ने मांग की है कि आरोप को तुरंत गिरफ्तार किया जाए और उसके खिलाफ पोस्को एक्ट के तहत मामला दर्ज किया जाए। साथ ही परिवार के किसी सदस्य को दोनों पीडि़ताओं की सुरक्षा की जिम्मेदारी दी जाए। ईस्ट खासी हिल्स के एसपी डेविस एनआर मराक ने बताया कि एफआईआर शिलॉन्ग सदर पुलिस थाने में बुधवार को दर्ज कराई गई। मॉनगैप पुलिस थाने के प्रभारी को इस संबंध में जरूरी कदम उठाने का निर्देश दिया गया है। अभी तक मुझे रिपोर्ट प्राप्त नहीं हुई है।