इस साल सामान्य रहेगा मॉनसून, मोदी सरकार के लिए राहत की खबर

Daily news network Posted: 2017-04-18 17:51:03 IST Updated: 2017-04-18 17:51:03 IST
इस साल सामान्य रहेगा मॉनसून, मोदी सरकार के लिए राहत की खबर
  • मौसम विभाग ने 2017 के मॉनसून को लेकर अपना पहला अनुमान जारी कर दिया है

नई दिल्ली। मौसम विभाग ने 2017 के मॉनसून को लेकर अपना पहला अनुमान जारी कर दिया है। मौसम विभाग के मुताबिक इस साल दक्षिण पश्चिम मॉनसून सामान्य रहेगा। अगर ऐसा होता है तो यह किसानों के साथ साथ अर्थव्यवस्था के लिए भी अच्छी खबर है। 

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग के डीजी के.जी.रमेश ने कहा कि इस साल पूरे देश में सभी जगहों पर सामान्य मॉनसून के तहत ठीकठाक बारिश देखने को मिलेगी। मॉनसून के चार महीने यानी जून से लेकर सितंबर तक देश में औसतन 96 बारिश हो सकती है। हालांकि मौसम विभाग का यह भी कहना है कि इस साल अगस्त के बाद अलनीनो के आने की संभावना बन सकती है। अलनीनो के आने की संभावना 50 फीसदी है। मौसम विभाग के मुताबिक अल नीनो का साइकिल 2 से लेकर 5 साल का होता है। इस साल मानसून के दूसरे भाग में अलनीनो का खतरा बना हुआ है। 


मौसम विभाग के मुताबिक पिछले साल मॉनसून बेहतर रहा जिसके चलते कृषि उत्पादन बेहतर हुआ। भारत में औसत बारिश या एलपीए 1951 से 2000 के बीच हुई बारिश का औसत है जो कि 89 सेंटीमीटर है। इस संदर्भ में देखें तो एलपीए की 94 से 104 प्रतिशत तक बारिश सामान्य मानी जाती है। 96 फीसदी से नीचे सामान्य से कम और 104-110 फीसदी तक बारिश समान्य से अधिक की श्रेणी में आती है। 90 फीसदी से कम बरसात होने की स्थिति को सूखाग्रस्त घोषित कर दिया जाता है। गौरतलब है कि पिछले मॉनसून के लिए मौसम विभाग ने सामान्य से अधिक बारिश का अनुमान जताया था लेकिन मॉनसून खत्म होते होत सामान्य बारिश ही दर्ज की गई थी। 


पिछले साल भी देश में जून से सितंबर के दौरान 97 फीसदी बारिश दर्ज की गई थी। पिछले साल दक्षिणी प्रायद्वीप में कम बारिश हुई थी। तमिलनाडु,कर्नाटक और केरल के कई हिस्सों में तो सूखे की स्थिति पैदा हो गई थी।  2014 के दौरान देश में मॉनसून सीजन के दौरान 88 फीसदी और 2015 के दौरान 86 फीसदी बरसात दर्ज की गई थी और लगातार दो साल सूखे का सामना करना पड़ा था।