रोहिंग्या संकट- अवैध घुसपैठ रोकने के लिए मिजोरम सीमा पर बढ़ाई गयी सुरक्षा

Daily news network Posted: 2017-10-11 14:54:20 IST Updated: 2017-10-11 14:54:20 IST
रोहिंग्या संकट- अवैध घुसपैठ रोकने के लिए मिजोरम सीमा पर बढ़ाई गयी सुरक्षा
  • रोहिंग्या लोगो की अवैध घुसपैठ को रोकने के लिए मिजोरम-म्यामांर सीमा पर असम राइफल्स की आठ अतिरिक्त कंपनियां तैनात की गयी हैं। पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी ने आज यह जानकारी दी।

रोहिंग्या लोगो की अवैध घुसपैठ को रोकने के लिए मिजोरम-म्यामांर सीमा पर असम राइफल्स की आठ अतिरिक्त कंपनियां तैनात की गयी हैं। पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी ने आज यह जानकारी दी।


अधिकारी ने कहा कि केन्द्र के निर्देश पर सुरक्षा व्यवस्था सख्त की गयी है उन्होंने कहा, ‘‘एजल, सर्चिप और लुंगेई स्थित बटालियन मुख्यालयों के कर्मियों सहित असम राइफल्स की तीन कंपनियां तैनात की गयी हैं.’’ उन्होंने कहा कि अन्य तीन कंपनियों में असम, मणिपुर और नागालैंड के कर्मी शामिल हैं।


अधिकारी ने हालांकि संदेह जताया है कि रोहिंग्या मिजोरम में प्रवेश का प्रयास करेंगे क्योंकि अशांति का शिकार रखाइन प्रांत राज्य से बहुत दूर है। उन्होंने कहा कि अभी तक किसी रोहिंग्या ने राज्य में प्रवेश का प्रयास नहीं किया है। भारत सरकार ने रोहिंग्या शरणार्थियों को भारत से वापस भेजने का फैसला लिया है।


आपको बता दें कि 25 अगस्त को रखाइन प्रांत में म्यामांर के सैनिकों की ओर से कार्रवाई शुरू किए जाने के बाद करीब पांच लाख रोहिंग्या भागकर बांग्लादेश में दाखिल हुए और इस तरह से कुल नौ लाख रोहिंग्या म्यामांर छोड़ चुके हैं इसके साथ ही सेना के अभियान में अब तक 3,000 रोहिंग्या मुसलमान मारे गए हैं और 'ह्यूमन राइट्स वाच' को 284 गांवों को तबाह किए जाने के सबूत मिले हैं।