300 उग्रवादियों के सरेंडर के लिए असम के इस विधायक ने की पहल

Daily news network Posted: 2017-09-13 18:36:28 IST Updated: 2017-09-13 18:36:28 IST
300 उग्रवादियों के सरेंडर के लिए असम के इस विधायक ने की पहल
  • कत्लीचेरा के विधायक सुजाम उद्दीन लश्कर ने करीब 300 ब्रू(रियांग) उग्रवादियों के सरेंडर की प्रक्रिया को स्ट्रीमलाइन करने के लिए पहल की है।

हेलाकांडि।

कत्लीचेरा के विधायक सुजाम उद्दीन लश्कर ने करीब 300 ब्रू(रियांग) उग्रवादियों के सरेंडर की प्रक्रिया को स्ट्रीमलाइन करने के लिए पहल की है। ये 300 उग्रवादी दो समूहों के हैं जो असम के हेलाकांडि जिले में असम मिजोरम सीमा पर सक्रिय हैं। लश्कर ने दो उग्रवादी समूहों यूनाइटेड डेमोक्रेटिक लिबरेशन आर्मी(बराक वैली) और ब्रू रिवोल्यूशनरी आर्मी यूनिटन के प्रतिनिधियों के साथ गुवाहाटी में सोमवार को मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल से मुलाकात की। लश्कर ने कहा कि मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने संतोष जताया है कि उग्रवादी मुख्यधारा में लौटना चाहते हैं।

इंस्पेक्टर जनरल ऑफ पुलिस अनुराग तन्खा पिछले माह हेलाकांडि में उग्रवादी समूहों के नेताओं के साथ दो दौर की वार्ता कर चुके हैं। उग्रवादी समूहों ने शर्त रखी है कि हेलाकांडि जिले के रियांग बहुल गांवों में विकास होना चाहिए। उन्होंने अधिकारियों को बताया कि लोगों की हालत दयनीय है। उन्होंने इलाके के लिए डेवलपमेंट पैकेज की मांग की है। यूनाइटेड डेमोक्रेटिक लिबरेशन फ्रंट के 300 से ज्यादा सदस्यों ने 2008 में तत्कालीन मुख्यमंत्री तरुण गोगोई के समक्ष गुवाहाटी में हथियार डाल दिए थे। लश्कर ने कहा कि उग्रवादियों ने मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल से रियांग डेवलपमेंट काउंसि बनाने की मांग की है। साथ ही अनुसूचित जनजाति का दर्जा देने की मांग की है। सोनोवाल ने उन्हें आश्वासन दिया है कि मामले को देखा जाएगा। मीटिंग में आदिवासी कल्याण मंत्री प्रमिला रानी ब्रह्मा भी मौजूद थी। लश्कर ने कहा कि चर्चा फलदायक थी और वे राज्य सरकार की मंजूरी का इंतजार कर रहे हैं। पुलिस सूत्रों ने कहा है कि वे उग्रवादियों और हथियारों की सूची बना रहे हैं। कुछ महीनों में सूचियां पूरी हो जाएगी।