Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

मुलायम सिंह की पत्नी साधना ने दिया चौंकाने वाला बयान

Patrika news network Posted: 2017-03-07 16:16:52 IST Updated: 2017-03-07 16:16:52 IST
मुलायम सिंह की पत्नी साधना ने दिया चौंकाने वाला बयान
  • यूपी चुनाव से पहले समाजवादी पार्टी में मचा घमासान चुनाव खत्म होते होते एक बार फिर सिर उठाता नजर आ रहा है। पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव की दूसरी पत्नी साधना यादव ने मंगलवार को कहा कि इस पूरे घटनाक्रम में उनका बहुत अपमान हुआ है।

लखनऊ।

यूपी चुनाव से पहले समाजवादी पार्टी में मचा घमासान चुनाव खत्म होते होते एक बार फिर सिर उठाता नजर आ रहा है। पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव की दूसरी पत्नी साधना यादव ने मंगलवार को कहा कि इस पूरे घटनाक्रम में उनका बहुत अपमान हुआ है। उन्होंने शिवपाल यादव को पार्टी से दरनिकार किए जाने को गलत बताया। वहीं बेटे प्रतीक यादव के राजनीति में आने के संकेत भी दिए। हालांकि साधना ने यह भी कहा कि वह अखिलेश यादव को फिर से मुख्यमंत्री पद पर देखना चाहती है।



गौरतलब है कि सपा में वर्चस्व की लड़ाई में साधना यादव की भूमिका को लेकर तमाम तरह की अटकलें लगती रहती हैं। साधना ने कहा कि अखिलेश यादव को गुमराह किया गया। मुझे नहीं बता कि अखिलेश को किसने गुमराह किया, वह नेताजी और मेरी बहुत इज्जत करते हैं। 1 जनवरी से लेकर अब तक मैंने अखिलेश से जितनी बातें की है उनती बातें पिछले 5 साल में भी नहीं की। मैं चाहती हूं कि हमारी पार्टी फिर से जीते और अखिलेश मुख्यमंत्री बनें। 

जिस वक्त पार्टी और सरकार में तनातनी अपने चरम पर थी उस समय यूपी के मुख्य सचिव रहे दीपक सिंघल को पद से हटाए जाने के मामले में साधना की भूमिका को लेकर काफी चर्चा हुई थी। इसके जवाब में साधना ने कहा कि एक मुख्य सचिव का ट्रांसफर हुआ और लोगों ने कहा कि इसके पीछे मैं थी। यह पूरी तरह गलती है। काश मैं इतनी ताकतवर होती। हां, जो कुछ भी परिवार में हुआ वह देखकर मुझे बुरा लगता है। अपने ऊपर लगे आरोपों पर मैं किसी को दोष नहीं देती। अब हम पीछे नहीं हटेंगे, मेरा बहुत अपमान हुआ है।



जिस तरह शिवपाल को दरकिनार किया गया वह ठीक नहीं था। उन्हें बेइज्जत नहीं किया जाना चाहिए था। उनकी कोई गलती नहीं थी। उन्होंने नेताजी और पार्टी के लिए बहुत कुछ किया है। चाहे कुछ भी हो जाए, किसी को नेताजी का असम्मान नहीं करना चाहिए था। उन्होंने ही पार्टी की स्थापना की और उसे सींचा। राजनीति में आने के सवाल पर साधना ने बेटे प्रतीक यादव को लेकर अहम संकेत दिया। उन्होंने कहा,हमें नेताजी ने नहीं आने दिया लेकिन हम बैकग्राउंड में रहकर काम करते रहे। अब मैं राजनीति में नहीं आना चाहती लेकिन हां, मैं चाहती हूं कि मेरा बेटा प्रतीक राजनीति में आए।