नागालैण्ड: भाजपा को झटका, रियो ने बनवाई नई पार्टी, विधानसभा चुनाव में देगी चुनौती

Daily news network Posted: 2017-05-18 17:10:55 IST Updated: 2017-05-18 17:10:55 IST
नागालैण्ड: भाजपा को झटका, रियो ने बनवाई नई पार्टी, विधानसभा चुनाव में देगी चुनौती
  • नागालैण्ड में नए राजनीतिक दल का गठन हुआ है। इसका नाम है डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी(डीपीपी)

दिमापुर।

नागालैण्ड में नए राजनीतिक दल का गठन हुआ है। इसका नाम है डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी(डीपीपी)। दिमापुर के नजदीक चुमुकेडिमा में बुधवार को पार्टी का गठन हुआ और इसकी पहली जनरल बॉडी मीटिंग भी हुई। पार्टी आगामी विधानसभा चुनाव में हिस्सा लेगी। डीपीपी नागालैण्ड में भाजपा की सहयोगी नगा पीपुल्स फ्रंट(एनपीएफ)और कांग्रेस को चुनौती दे सकती है। 




डीपीपी के गठन के पीछे एनपीएफ से निलंबित सांसद और पूर्व मुख्यमंत्री एन.रियो का हाथ बताया जा रहा है। रियो के करीबी अबु मेथा को डीपीपी का सेक्रेटरी जनरल बनाया गया है। एनपीएफ और डीपीपी के अंदरुनी लोगों का कहना है कि नई पार्टी रियो और मुख्यमंत्री एस.लिजित्सु कैंप के बीच जारी लड़ाई का नतीजा है। रियो ने 2014 का लोकसभा चुनाव लड़ा और सांसद बन गए। इसके बाद उनका पार्टी पर नियंत्रण नहीं रहा। हालांकि यूनिनिय मिनिस्ट्री में शामिल नहीं करने के बाद माना जा रहा था कि रियो फिर से राज्य सरकार में लौटेंगे लेकिन लिजित्सु कैंप दीवार बन कर खड़ा हो गया। रियो तीन बार नागालैण्ड के मुख्यमंत्री रह चुके हैं। कोन्याक को पार्टी का संस्थापक अध्यक्ष चुना गया है। उन्होंने हाल ही में एनपीएफ से इस्तीफा दिया था लेकिन सत्तारुढ़ पार्टी का दावा है कि कोन्याक कभी उसके सदस्य नहीं रहे। डीपीपी की पहली जनरल बॉडी मीटिंग चुमुकेडिमा में हुई। 



मीटिंग में पार्टी के नए पदाधिकारी चुने गए। चुनाव आयोग में रजिस्ट्रेशन होने के बाद जून में पार्टी का औपचारिक रूप से गठन होगा। पार्टी के पहले आधिकारिक बयान में डीपीपी के अध्यक्ष चिंगवांग कोन्याक और उपाध्यक्ष नुजोटा एस ने जानकारी दी कि मीटिंग में पार्टी ने संस्थापक पदाधिकारियों को चुना गया। एन.स्वुरो,चुंबेन मुरी,के.सुखालु,सुखातो और मेनुओविली को उपाध्यक्ष बनाया गया है।  जॉन मुरी को कोषाध्यक्ष और रुसेमतोंग लोंगकुमेर, बैंजामिन लोरिन और पॉसी जिलियांग को महासचिव बनाया गया है।