विधानसभा चुनाव से पहले ही जीत गए नागालैंड के पूर्व मुख्यमंत्री नेफ्यू रियो

Daily news network Posted: 2018-02-13 13:39:02 IST Updated: 2018-02-13 13:39:02 IST
विधानसभा चुनाव से पहले ही जीत गए नागालैंड के पूर्व मुख्यमंत्री नेफ्यू रियो
  • नेफ्यू रियो को नॉर्दन अंगामी-2 विधानसभा क्षेत्र से निर्विरोध निर्वाचित घोषित किया गया

कोहिमा।

नागालैंड के पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनलिस्ट डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी(एनडीपीपी) के नेता नेफ्यू रियो को नॉर्दन अंगामी-2 विधानसभा क्षेत्र से निर्विरोध निर्वाचित घोषित किया गया है। उनके सामने खड़े हुए नगा पीपुल्स फ्रंट (एनपीएफ) के उम्मीदवार ने सोमवार को अपना नाम वापस ले लिया।


आपको बता दें कि रियो एनडीपीपी के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार हैं। रियो नॉर्दन अंगामी-2 विधानसभा सीट से चुनाव लड़ रहे थे। यह सीट कोहिमा जिले में पड़ती है। रियो की जीत के साथ ही अब चुनाव मैदान में कुल 195 उम्मीदवार रह गए हैं। इनमें पांच महिलाएं शामिल है। नागालैंड में इसी माह विधानसभा चुनाव है। राज्य की 60 सीटों के लिए 27 फरवरी को मतदान होगा। 3 मार्च को चुनाव के नतीजे घोषित होंगे। इस बीच नागालैंड के मुख्य निर्वाचन अधिकारी अभिजीत सिन्हा ने राज्य में स्वतंत्र व निष्पक्ष चुनाव का आश्वासन दिया है। विधानसभा चुनाव में वीवीपीएटी मशीन के साथ ईवीएम का भी इस्तेमाल होगा।


रियो ने हाल ही में एनपीएफ से इस्तीफा देकर एनडीपीपी में शामिल हुए थे। भाजपा ने एनपीएफ से 15 साल पुराना नाता तोड़कर एनडीपीपी से गठबंधन किया। दोनों दलों के बीच सीटों के बंटवारे को लेकर जो समझौता हुआ है उसके मुताबिक एनडीपीपी 40 और भाजपा 20 सीटों पर चुनाव लड़ रही है। रियो तीन बार नागालैंड के मुख्यमंत्री रह चुके हैं। एनपीएफ ने बुधवार को रियो पर आरोप लगाया था कि उन्होंने पार्टी उम्मीदवार को नामांकन पत्र दाखिल करने से रोकने की कोशिश की थी। एनपीएफ ने चुनाव आयोग के प्रिंसिपल सेक्रेटरी (राजनीतिक दलों) के समक्ष रियो के खिलाफ अपनी आधिकारिक शिकायत दर्ज कराई थी। शिकायत की एक कॉपी मीडिया को भी उपलब्ध कराई गई थी।


मुख्य निवार्चन अधिकारी अभिजीत सिन्हा ने इस तरह की शिकायत मिलने की पुष्टि की थी। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक एनपीएफ के उम्मीदवार चुपफु-ओ नामांकन पत्र दाखिल करने जा रहे थे लेकिन उन्हें नेफ्यू रियो ने रोक लिया। नागालैंड में कांग्रेस अकेले चुनाव लड़ रही है। उसने किसी भी दल से गठबंधन नहीं किया है। कांग्रेस ने 23 उम्मीदवारों को चुनाव मैदान में उतारने की घोषणा की थी। पार्टी ने विधानसभा चुनाव के बाद भाजपा को छोड़कर किसी भी धर्मनिरपेक्ष दल से हाथ मिलाने की बात कही है।


एनपीएफ राज्य की 59 सीटों पर चुनाव लड़ रही है। नेशनल पीपुल्स पार्टी (एनपीपी) 27 सीटों पर चुनाव लड़ रही है जबकि जनता दल यूनाइटेड ने 15 सीटों पर उम्मीदवार खड़े किए हैं। जदयू और एनपीपी ने किसी भी दल से चुनाव पूर्व गठबंधन नहीं किया है। जदयू ने 15 साल पुराने नगा पीपुल्स फ्रंट(एनपीएफ)और भाजपा के गठबंधन से खुद को अलग कर लिया है। जदयू, भाजपा और एनपीएफ ने 2003 में गठबंधन किया था। इसको नाम दिया गया था डेमोक्रेटिक अलायंस ऑफ नागालैंड। यह गठबंधन 2003 से सत्ता में है।