त्रिपुराः भाजपा की तरह पैसा नहीं, फिर भी जीतेंगे चुनाव

Daily news network Posted: 2018-02-12 08:43:06 IST Updated: 2018-02-12 08:43:06 IST
त्रिपुराः भाजपा की तरह पैसा नहीं, फिर भी जीतेंगे चुनाव
  • त्रिपुरा चुनाव की धुरी माकपा और भाजपा के इर्द गिर्द घूम रही है। यह साफ हो चुका है कि इस बार चुनाव सत्ताधारी माकपा और भाजपा के बीच होंगे।

अगरतला।

त्रिपुरा चुनाव की धुरी माकपा और भाजपा के इर्द गिर्द घूम रही है। यह साफ हो चुका है कि इस बार चुनाव सत्ताधारी माकपा और भाजपा के बीच होंगे।


वाम मोर्चा एवं भाजपा के बीच चुनावी जंग पर सबकी निगाहें टिकी हैं। लेकिन पूर्वोत्तर राज्य में कभी उभरती ताकत रही तृणमूल कांग्रेस को अब आगामी विधानसभा चुनावों में अपनी उपस्थिति दर्ज कराने के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है।


पार्टी ने राज्य में कुल 60 विधानसभा क्षेत्रों की 24 सीटों में अपने उम्मीदवार उतारे हैं। तृणमूल के त्रिपुरा प्रभारी एवं पश्चिम बंगाल विधानसभा में विधायक सब्यसाची दत्ता ने बताया कि वह बेहद सकारात्मक हैं कि तृणमूल राज्य में उभरती ताकत बनेगी।


यह पूछे जाने पर कि क्या वह आश्वस्त हैं कि यह गठबंधन सत्ता में आयेगा, इस पर उन्होंने कहा, 'देखते हैं कि क्या होता है। भाजपा की तरह हमारे पास धन की ताकत नहीं है लेकिन हम कड़ी टक्कर देने की कोशिश कर रहे हैं।'


तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) ने 18 फरवरी को होने वाले चुनाव के लिए इंडीजीनस नेशनलिस्ट पार्टी ऑफ त्रिपुरा (आईएनपीटी) एवं नेशनल कॉन्फ्रेंस ऑफ त्रिपुरा के साथ गठबंधन किया है।