मोदी का फरमान, प्रत्येक मंत्री को एक रात नॉर्थ ईस्ट में बितानी होगी

Daily news network Posted: 2017-05-20 11:14:32 IST Updated: 2017-05-20 11:14:32 IST
मोदी का फरमान, प्रत्येक मंत्री को एक रात नॉर्थ ईस्ट में बितानी होगी
  • प्रधानमंत्री ने उन मंत्रियों के लिए एक रात बिताने अनिवार्य कर दिया है जो पूर्वोत्तर राज्यों का दौरा करते हैं।

नई दिल्ली।

प्रधानमंत्री ने उन मंत्रियों के लिए एक रात बिताने अनिवार्य कर दिया है जो पूर्वोत्तर राज्यों का दौरा करते हैं। मोदी ने इसके जरिए यह संदेश देने की कोशिश की है कि उग्रवाद से प्रभावित क्षेत्र सभी के लिए सुरक्षित है। प्रधानमंत्री के दफ्तर ने केन्द्रीय मंत्रियों के लिए हर पखवाड़े में एक बार क्षेत्र का दौरा करने का प्लान बनाया था। इसके दो साल बाद ये निर्देश जारी हुए हैं। 



पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री महेश शर्मा ने कहा कि नॉर्थ ईस्ट में टूरिज्म और डेवलपमेंट को जोडऩे और इसे दुनिया के सभी लोगों के लिए टूरिस्ट डेस्टिनेशन बनाना प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का सपना है। इसे सुनिश्चित करने के लिए प्रधानमंत्री ने सभी मंत्रियों को न केवल पूर्वोत्तर राज्यों का दौरा करने को कहा है बल्कि वहां रात में रुकने को भी कहा है। 




टूरिज्म मिनिस्ट्री के सूत्रों के मुताबिक सरकार नॉर्थईस्ट के बारे में उस पॉपुलर परसेप्शन को बदलना चाहती है जिसमें उग्रवाद से ग्रस्त क्षेत्र को सुरक्षा के लिए दु:स्वप्न कहा जाता है। सूत्रों के मुताबिक मंत्रियों के एक रात वहां बिताने से बेहतर क्षेत्र की सुरक्षा को प्रदर्शित करने का और तरीका नहीं हो सकता। इस कदम के परिणामस्वरूप शर्मा ने अप्रेल के पहले सप्ताह में असम का दौरा किया था। 



उन्होंने नमामी ब्रह्मपुत्र फेस्टिवल में हिस्सा लिया था। यह गुवाहाटी का सबसे बड़ा रिवर फेस्टिवल है। केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री किरण रिजिजू भी इस फेस्टिवल में मौजूद थे। असम दौरे के बाद शर्मा शनिवार को मणिपुर गए। उन्होंने वहां 16 मई से शुरू हुए सिरॉय लिली फेस्टिवल में हिस्सा लिया। नॉर्थ ईस्टर्न रीजन के विकास राज्य मंत्री जितेन्द्र सिंह ने भी इस महीने के दूसरे सप्ताह में क्षेत्र का दौरा किया। सिंह ने एक टूरिज्म इवेंट में हिस्सा लिया।





 26 मई को मोदी सरकार के तीन साल पूरे हो  ने पर भाजपा का मेकिंग ऑफ डेवलप्ड इंडिया फेस्टिवल 26 मई से शुरू होगा। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी नॉर्थ ईस्ट से इसकी शुरुआत करेंगे। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने भी हाल ही में त्रिपुरा का दौरा किया था। इन सभी यात्राओं का मकसद नॉर्थ ईस्ट की ओर ध्यान आकर्षित करना,कनेक्टिविटी को बिल्ड करना और सैलानियों को आकर्षित करना है।