एनआरसी और आत्महत्या, जानिए पूरा सच

Daily news network Posted: 2018-01-12 16:55:38 IST Updated: 2018-01-12 17:57:32 IST
  • असम में nrc के लागु होने के बाद से कुछ साजिशकर्ताओ ने इसे एक मुद्द्दा बना के रख दिया है। कुछ लोग एनआरसी के प्रति लोगों में अनेक प्रकार की भ्रांतिया फैला रहे है।

असम

असम में nrc के लागु होने के बाद से कुछ साजिशकर्ताओ ने इसे एक मुद्द्दा बना के रख दिया है। कुछ लोग एनआरसी के प्रति लोगों में अनेक प्रकार की भ्रांतिया फैला रहे है। यहाँ तक की अब किसी के द्वारा की गयी आत्महत्या को भी एनआरसी से जोड़ कर माहौल खराब करने की कोशिश की जा रही है। हद तो तब हो गयी जब असम के हनीफ नाम के ब्यक्ति की आत्महत्या को कुछ लोगों ने जबरन nrc से जोड़ दिया है। हनीफ अपनी मौत के पीछे कई  सवाल छोड़ के गया है।



जिनमे सबसे पहला प्रश्न उठता है यदि वह असल में भारत का नागरिक था तो उसने क्यों दूसरे मसौदे का इंतजार नहीं किया ?

असम में नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजन्स (एनआरसी) का पहला ड्राफ्ट जारी होते ही अजीबो-गरीब मामलों को भी अब लोग nrc से जोड़कर देख रहे है।  सोमवार को एक 40 वर्षीय कैब ड्राइवर हनीफ खान ने पारिवारिक तनाव के कारण सुसाइड कर लिया। जिसके बाद कुछ लोगो ने अफवाह फैला दी कि उसका एनआरसी ड्राफ्ट में नहीं था इसलिए उसने ख़ुदकुशी कर ली है। 





सिलचर के रहने वाले हनीफ का शव काशिपुर में एक पेड़ से लटका हुआ मिला। उसकी पत्नी रकसा खान ने बताया कि हनीफ किसी बात को लेकर कुछ दिनों से तनाव में था। पुलिस की गाड़ी को देखकर वह चोरो की तरह भागने लगता था और कई बार घबराहट के  मारे तनाव में रहता था। घर से बाहर जाने में उसे इस बात से डर लगता था कि कहीं उसे पुलिस पकड़ ना ले। जब पुलिस की गाड़ी चली जाती थी तब वह घर लौटता था।