विरोधियों को एक ही चाल में मोदी ने कर दिया पस्त, जानिए कैसे

Daily news network Posted: 2017-04-18 11:10:16 IST Updated: 2017-04-18 11:10:16 IST
विरोधियों को एक ही चाल में मोदी ने कर दिया पस्त, जानिए कैसे
  • भाजपा के स्टार कैंपेनर नरेन्द्र मोदी ने आगामी गुजरात विधानसभा चुनावों में पार्टी की राह में चुनौती बन रहे आंदोलनों की हवा निकाल दी

अहमदाबाद।

भाजपा के स्टार कैंपेनर नरेन्द्र मोदी ने आगामी गुजरात विधानसभा चुनावों में पार्टी की राह में चुनौती बन रहे आंदोलनों की हवा निकाल दी है। सूखे की समस्या से जूझ रहे सौराष्ट्र के बोटाड़ में जब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने एक कार्यक्रम के दौरान यह कहा कि नर्मदा नदी का पानी इलाके के आम लोगों के लिए गेमचेंजर साबित होगा तो वहां मौजूद समूचा गुजरात कैबिनेट मुस्कुराने लगा। इस मुस्कुराहट की वजह थी,सभी ने निर्विवाद रूप से माना कि गुजरात में अगर कोई गेमचेंजर है तो वह हैं इकलौते नरेन्द्र मोदी। 


बहुत सोचसमझकर प्लान किए गए मोदी के इस गुजरात दौरे ने पाटीदार आंदोलन,आम आदमी पार्टी और कांग्रेस की हवा निकाल दी। पीएम ने रणनीति के तहत सूरत में 16 घंटे गुजारे। मोदी की भाषणकला अद्भुत है,फिर भी उन्होंने सूरत में रैली का चुनाव नहीं किया। इसके बजाय उन्होंने 12 किलोमीटर लंबा रोड शो का फैसला किया। करीब 10 लाख से ज्यादा की भीड़ ने रोड शो के रास्ते में जगह जगह उनका इंतजार कर रही थी। भीड़ में युवा और महिलाओं की अच्छी खासी तादाद थी। खासकर बुर्का पहनी महिलाओं की। जो दूरी सामान्य तौर पर 15 मिनट में तय होती है उसे तय करने में मोदी ने 115 मिनट लगाए। 


सूरत ही वह जगह थी जहां भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को हार्दिक पटेल की अगुवाई में चल रहे पाटीदार आरक्षण आंदोलन के वक्त सबसे पहले विरोध का सामना करना पड़ा था। आम आदमी पार्टी भी सूरत में काफी मजबूत है। राजनीतिक पर्यवेक्षकों का कहना है कि मोदी के सूरत दौरे के बाद उत्साहित भाजपा इस साल दिसंबर में होने वाले विधानसभा चुनाव में 182 में से 150 सीटें जीतने के अपने लक्ष्य की ओर बढ़ेगी। गुजरात में भाजपा ने पहली बार 1995 में पूर्ण बहुमत हासिल किया था। उसके बाद से ही यह सूबा भाजपा का गढ़ रहा है। 


हालांकि पिछले एक डेढ़ साल भाजपा के लिए मुश्किल भरा रहा है और भ्रष्टाचार के आरोपों की वजह से पार्टी को अपना मुख्यमंत्री भी बदलना पड़ा। इससे आम आदमी पार्टी,हार्दिक पटेल के पाटीदार आंदोलन,अल्पेश ठाकुर के ओबीसी मंच और कांग्रेस की उम्मीदें जगी थीं लेकिन सिर्फ एक दौरे से मोदी ने सबको पस्त कर दिया। पीएम मोदी ने एक चैरिटेबल ट्रस्ट की ओर से चलने वाले अस्पताल और जेम पार्क का उद्घाटन किया। दोनों के मालिक पटेल हैं। अस्पताल का संचालन करने वाले ट्रस्ट से दुनिया भर के करीब 350 प्रभावशाली पटेल जुड़े हुए हैं और उद्घाटन समारोह में वे सभी मौजूद थे। उन लोगों ने मोदी और भाजपा के प्रति अपना समर्थन जताया। 


एक दूसरे कार्यक्रम में पीएम ने डायमंड फैक्ट्री का उद्घाटन किया। वहां करीब 15 हजार लोग मौजूद थे,जिनमें दुनिया भर के अमीर हीरा कारोबारियों की तादाद करीब 500 से ज्यादा थी। हार्दिक पटेल अपने समाज के लिए आरक्षण की मांग कर रहे हैं लेकिन पीएम मोदी ने एक रणनीति के तहत उन कार्यक्रमों में शिरकत और अध्यक्षता की जो पटेलों के प्रभाव वाले थे। गुजरात भाजपा यूथ विंग के प्रमुख ऋत्विज पटेल ने सवाल किया कि जब पटेल गुजरात का सबसे अमीर समुदाय है और सामाजिक व शैक्षिक तौर पर अच्छा कर रहा है तो आरक्षण की जरूरत क्या है? 


 हालांकि हार्दिक पटेल ने पीएम के दौरे को शक्ति प्रदर्शन बताते हुए इसे भाजपा की बेचैनी करार दिया है। प्रधानमंत्री मोदी ने दक्षिण गुजरात और सौराष्ट्र में 24 घंटे से भी कम समय में 6 सार्वजनिक सभाओं को संबोधित किया। उन्होंने इन कार्यक्रमों के जरिए राज्य के 18 लाख से ज्यादा लोगों को खुद से जोड़ा।