16 दिसंबर को मेघालय में कांग्रेस के खिलाफ हुंकार भरेंगे पीएम मोदी

Daily news network Posted: 2017-12-07 16:46:01 IST Updated: 2017-12-07 16:46:01 IST
16 दिसंबर को मेघालय में कांग्रेस के खिलाफ हुंकार भरेंगे पीएम मोदी
  • प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 16 दिसंबर को मेघालय दौरे पर जाएंगे। प्रधानमंत्री राज्य में पार्टी दफ्तर का उद्घाटन करेंगे। साथ ही वे राज्य में पार्टी के प्रचार अभियान की शुरुआत करेंगे।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 16 दिसंबर को मेघालय दौरे पर जाएंगे। प्रधानमंत्री राज्य में पार्टी दफ्तर का उद्घाटन करेंगे। साथ ही वे राज्य में पार्टी के प्रचार अभियान की शुरुआत करेंगे। गृह मंत्री राजनाथ सिंह को यहां गुरुवार को पार्टी दफ्तर का उद्घाटन करना था लेकिन उनका दौरा रद्द कर दिया गया है। मेघालय भाजपा के अध्यक्ष शिबुन लिंगदोह ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 16 दिसंबर को शिलॉन्ग पहुंचेंगे। वेपोलो ग्राउंड में पार्टी के चुनाव अभियान की अगुवाई करेंगे। उनके प्रचार से राज्य में भाजपा की संभावनाएं मजबूत होंगी। आपको बता दें कि मेघालय में अगले साल फरवरी-मार्च में विधानसभा चुनाव होने हैं। 60 सदस्यीय विधानसभा में भाजपा का एक भी विधायक नहीं है।

इस बार भाजपा सभी 60 सीटों पर उम्मीदवार खड़े करेगी। उसे 60 में से 40 सीटें जीतने की उम्मीद है। कांग्रेस के नेतृत्व वाली मेघालय यूनाइटेड अलायंस सरकार लगातार दो बार से सत्ता में है। मुकुल संगमा के नेतृत्व में कांग्रेस ने गठबंधन सरकार बनाई थी। 2013 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को पूर्ण बहुमत नहीं मिल पाया था। उस वक्त कांग्रेस को 29 सीटें मिली थी। कांग्रेस ने एनसीपी व निर्दलीय विधायकों की मदद से गठबंधन सरकार बनाई थी। उधर मेघालय के मुख्यमंत्री मुकुल संगमा ने अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले सत्तारुढ़ काग्रेस के मंत्रियों व विधायकों के पलायन को महत्व ना देते हुए बुधवार को दावा किया कि पार्टी 60 सदस्यीय विधानसभा के चुनाव में पूर्ण बहुमत से वापसी करेगी।

शिलॉन्ग में एक कार्यक्रम से इतर पत्रकारों से बातचीत में मुख्यमंत्री मुकुल संगमा ने कहा, मैं आपको बता रहा हूं कि हम 2018 में 40 सीटों के साथ वापसी कर रहे हैं। मुख्यमंत्री मुकुल संगमा का यह बयान उस वक्त आया है जब तीन कांग्रेस मंत्रियों, जिनमें कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष व चार बार मुख्यमंत्री रहे डी.डी.लपांग भी शामिल हैं, ने घोषणा की है कि वे आगामी विधानसभा चुनाव में हिस्सा नहीं लेंगे। चार कैबिनेट मंत्री भी कांग्रेस के टिकट पर फिर से चुनाव नहीं लडऩा चाहते हैं।

इससे पहले संगमा ने कांग्रेस के बागी विधायकों को अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा देने की चुनौती दी। संगमा ने मीडिया से कहा, हम उन सभी को जानते हैं जो इस्तीफा देंगे। हम यह देखकर खुश होंगे कि वे विधायकी से इस्तीफा देंगे। इस वजह से हमने पर्याप्त समय दिया है। अगर किसी में हिम्मत है तो विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा देकर दिखाएं।