नलबाड़ी में गुरु-शिष्य का संबंध पहुंचा थाने

Daily news network Posted: 2017-09-17 19:25:31 IST Updated: 2017-09-17 19:25:31 IST
नलबाड़ी में गुरु-शिष्य का संबंध पहुंचा थाने
  • 'मास्टरजी का डंडा' अब यह शब्द एक इतिहास बन चुका है। एक जमाना था जब मास्टरजी डंडे के सहारे छात्र-छात्राओं को काबू में किया करते थे।

नलबाड़ी।

'मास्टरजी का डंडा' अब यह शब्द एक इतिहास बन चुका है। एक जमाना था जब मास्टरजी डंडे के सहारे छात्र-छात्राओं को काबू में किया करते थे।



नलबाड़ी में शिक्षक द्वारा एक उदंड छात्र को डंडे से नियंत्रित करने को लेकर कड़ी प्रतिक्रिया हो रही है। जिले के धर्मपुर इलाके के वनगांव उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में गुरु-शिष्य के संबंध के बीच घटी एक मामूली घटना थाने तक पहुंच गई।



विद्यालय के 10वीं का उदंड छात्र रिसार्ज अहमद ने कुछ दिन पूर्व हीरक ज्योति नामक एक छात्र को बुरी तरह से पीटा था। पीड़ित छात्र की शिकायत पर विद्यालय के उपाचार्य दिवाकर डेका ने आरोपी छात्र को शिक्षकों के कमरे में बुलाकर डंडे से तीन बार पिटाई की।



यहां तक मामला ठीक-ठाक था, पर उक्त छात्र घर पहुंचकर शिक्षक के विरुद्ध झूठा आरोप लगाया जिसके बाद उसके माता-पिता छात्र को लेकर अस्पताल पहुंचे। उधर घटना को लेकर छात्र ने अपने गुरु के खिलाफ बेलशर थाने में एक प्राथमिकी दर्ज कराई है।



उल्लेखनीय है कि इस नाटकीय घटनाक्रम ने गुरु-शिष्य परंपरा पर कालिख पोती है।



वहीं विद्यालय में किसी की न सुनने वाला उदंड छात्र रिसार्ज अहमद के खिलाफ शिक्षक दिवाकर डेका के कठोर होने के चलते अब छात्र के परिजन उनके विरुद्ध षड्यंत्र रच रहे हैं। इस तरह के उदंड बच्चों का पक्ष लेकर अभिभावक उन्हें क्या सीख देना चाहते हैं, यह विचारणीय विषय है।