एपीएससी घोटाले से जुड़े राजनेता भी के होंगे सलाखों के पीछे :डीजीपी

Daily news network Posted: 2017-11-12 14:42:06 IST Updated: 2017-11-12 14:42:06 IST
एपीएससी घोटाले से जुड़े राजनेता भी के होंगे सलाखों के पीछे :डीजीपी
  • पुलिस ने असम लोक सेवा आयोग (एपीएससी) में नौकरी के बदले नकदी घोटाले के सिलसिले में 21 तीनों को गिरफ्तार किया है और इसमें कथित तौर पर शामिल चार और नौकरशाहों की तलाश कर रही है । यह जानकारी डीजीपी मुकेश सहाय ने आज यहां मीडिया को दी ।

असम

गुवाहाटी। पुलिस ने असम लोक सेवा आयोग (एपीएससी) में नौकरी के बदले नकदी घोटाले के सिलसिले में 21 तीनों को गिरफ्तार किया है और इसमें कथित तौर पर शामिल चार और नौकरशाहों की तलाश कर रही है । यह जानकारी डीजीपी मुकेश  सहाय ने आज यहां मीडिया को दी । 




पुलिस ने पहले 2015 बैच के 25 अधिकारियों की पहचान की थी जिन्होंने छेड़छाड़ की गई उत्तर पुस्तिका के जरिए नौकरी पाने के लिए एपीएससी अधिकारियों को घूस दी थी । 25 अधिकारियों में से 13 असम लोकसेवा, सात असम पुलिस सेवा और शेष संबद्ध लोक सेवा से संबंधित थे। 


सहाय ने बताया कि हमने अब तक लोक सेवा के 21 अधिकारियों को गिरफ्तार किया है । सभी के 14 दिनों के लिए पुलिस रिमांड में भेजा गया है । मामले की जांच की जा रही है । उन्होंने बताया, हम शेष चार अधिकारियों की तलाश कर रहे है । वे गिरफ्तारी से बच रहे है । 



पुलिस ने हाल के दिनों में राज्य में भ्रष्टाचार के खिलाफ बड़ी कार्रवाइयों में से एक में तथाकथित दागी एपीएससी में नौकरी के लिए ननगदी घोटाले के सिलसिले में आठ नवंबर को  लोक सेवा के 16 अधिकारियों को गिरफ्तार किया है । 



डीजीपी ने बताया कि पुलिस हिरासत में 21 अधिकारियों से मैराथन पूछताछ के दौरान उनके परिजनों की ओर से आयोग के अध्यक्ष तथा सदस्यों को धन दिए जाने की बात का खुलासा हुआ है । दूसरी ओर कुछ कार्यरत अधिकारियों की भी गिरफ्तारी तय मानी जा रही है । 



डीजीपी सहाय ने मीडिया के बताया कि देश के विभिन्न फाँरेसिक लेबोरेटरी में बाकी बची उतर-पुस्तिकाएं भी भेजी गई हैं । हस्ताक्षर विशेषज्ञों की और से उत्तर- पुस्तिकाओं के छानबीन के बाद रिपोर्ट सौंपी जाएगी । हम रिपोर्ट का इंतजार कर रहे हैं । अगर पर्याप्त सबूत मिलते है तो राजनैतिक नेता भी सलाखों के पीछे होगे । उल्लेखनीय है कि एपीएससी घोटाले में सत्तारूढ़ व विपक्ष दल के नेताओं के संलिप्तता के भी आरोप लगाए जा रहे थे ।