अपने अस्तित्व के लिए हिंदुओं का जानगा जरूरी: तोगडिय़ा

Daily news network Posted: 2017-07-14 15:23:20 IST Updated: 2017-07-14 15:23:20 IST
अपने अस्तित्व के लिए हिंदुओं का जानगा जरूरी: तोगडिय़ा
  • शहर के प्रबुद्ध लोगों से बातचीत में तोगडिय़ा ने कहा कि हिंदू अपने अस्तित्व की लड़ाई के लिए समय रहते जागरूक नहीं हुए तो भारत में हिंदू अल्पसंख्यक हो जाएंगे

नगांव।

विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के अंतरराष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष डॉ. प्रवीण तोगडिय़ा ने कहा कि समग्र विश्व में जब सृष्टि शुरु हुई तब से हिंदुओं की संख्या ही ज्यादा थी। ये कहना भी गलत नहीं होगा कि हर जगह हिंदू राज्य था। बाद में कई कारणों से हिंदू कई हिस्सों में बंट गए। इसके बाद घोर षडयंत्र के तहत हिंदुओं के कत्ल होते गए और हिंदू पूरे विश्व स्तर पर अल्पसंख्यक बनते चले गए। 



शहर के प्रबुद्ध लोगों से बातचीत में तोगडिय़ा ने कहा कि हिंदू अपने अस्तित्व की लड़ाई के लिए समय रहते जागरूक नहीं हुए तो भारत में हिंदू अल्पसंख्यक हो जाएंगे। उन्होंने कहा कि संवैधानिक तौर पर हिंदुओं को अधिकार दिलाने के लिए विश्व हिंदू परिषद की लड़ाई जारी है। तोगडिय़ा ने राज्य के स्वास्थ्य व परिवार कल्याम मंत्री डॉ. हिमंत विश्व शर्मा के इस बयान का समर्थन भी किया, जिसमें डॉ. शर्मा ने कहा था कि दो से अधिक बच्चे होने पर उन्हें सरकारी सुविधाओं से वंचित किया जाएगा। 



तोगडिय़ा ने कहा कि इस तरह के कठोर कदम से ही जनसंख्या दर पर अंकुश लगाया जा सकेगा। उन्होंने दो बच्चे वाले बयान को अन्य राज्यों को भी कहेंगे कि वहां भी इस तरह का कानून बनाया जाए। उन्होंने स्वास्थ्य व चिकित्सा पर कहा कि देश में चिकित्सा क्षेत्र अभी काफी महंगा है, जिसके चलते देश की कुल आबादी का अधिकांश हिस्सा सही इलाज का खर्च नहीं उठा पाता है। उन्होंने गरीब तबके के लगभग डेढ़ करोड़ हिंदुओं की चिकित्सा के लिए इंडिया हेल्प फाउंडेशन का गठन किया है, जिसका विस्तार समग्र देश में किया जाएगा। उन्होंने विहिप से इस मुहिम से लोगों को जुडऩे का आह्वान किया ये बैठक विश्व हिंदू परिषद के उत्तर पूर्व प्रांत कोषाध्यक्ष धनपत घोड़ावत के नगांव स्थित निवास पर हुई थी।