असम: बोडो राजकुमार को खानी पड़ सकती है जेल की हवा, जानिए क्यों

Daily news network Posted: 2017-09-15 15:58:23 IST Updated: 2017-09-15 15:58:23 IST
असम: बोडो राजकुमार को खानी पड़ सकती है जेल की हवा, जानिए क्यों

गुवाहाटी।

पिछले साल मार्च में कोकराझार में बहुत धूमधाम से पृथ्वीराज नारायण देव मेच को बोडो प्रिंस के रूप में राजतिलक किया गया था। अब वह धोखाखड़ी और पररुप धारण के कथित मामले में घिर गए हैं। 20 साल के पृथ्वीराज बोडो किंग चिक्रा मेच के 19 वें वंशज हैं। आरोप है कि उन्होंने खुद को धमकी दी ताकि पर्सनल सिक्योरिटी ऑफिसर मिल जाए। समाचार पत्र द टेलीग्राफ ने पुलिस सूत्रों के हवाले से बताया कि पृथ्वीराज के खिलाफ 8 अगस्त को कोकराझार पुलिस थाने में एफआईआर दर्ज की गई।


एफआईआर दर्ज होने से एक दिन पहले एक व्यक्ति ने टेक्स्ट मैसेज भेजा था, जिसने खुद की पहचान एनडीएफबी (एस) के उग्रवादी बी.मिथिंगा के रूप में बताई थी। 11 अगस्त को उसने दावा किया कि उसे उसी फोन नंबर से धमकी भरा कॉल आया था। इसके बाद उसे पर्सनल सिक्योरिटी ऑफिसर(पीएसओ) मुहैया कराया गया और पुलिस ने जांच शुरू कर दी। पुलिस का दावा है कि जांच के दौरान खुलासा हुआ कि पृथ्वीराज ने अपने मोबाइल नंबर पर खुद को धमकी भरे मैसेज भेजे थे।


ये मैसेज खो चुके मोबाइल फोन से फेजे गए थे जो कोकराझार कस्बे के एक ड्राइवर का था, ताकि उसे अनुमानत: पीएसओ मिल सके। पृथ्वीराज के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने वाले कोकराझार पुलिस थाने के सब इंस्पेक्टर नारायण बोरो ने कहा, जांच के दौरान और गवाहों के बयानों से पता चला कि राजकुमार पृथ्वीराज नारायण देव मेच ने अपनी सुरक्षा के लिए पुलिस कर्मी या पीएसओ प्राप्त करने के लिए खुद के मोबाइन नंबर पर खुद ही धमकी भरे मैसेज  भेजे। पुलिस ने स्वत: संज्ञान लेते हुए 4 सितंबर को आईपीसी की धारा 419 और 420 के तहत कोकराझार पुलिस थाने में मामला दर्ज किया।


इन धाराओं के तहत जुर्माने के साथ तीन से सात साल तक की सजा का प्रावधान है। साथ ही पृथ्वीराज को मुहैया कराया गया पीएसओ वापस ले लिया गया है। बीटीसी चीफ हग्रामा मोहिलारी जो पृथ्वीराज के करीबी हैं, ने राज्य के डीजीपी मुकेश सहाय को 29 जुलाई को पत्र लिखा था। पृथ्वीराज ने यह आशंका व्यक्त की थी कि कुछ बदमाश उन्हें टारगेट कर सकते हैं क्योंकि वह बीटीसी चीफ और उनकी पार्टी के करीबी हैं। इसके बाद मोहिलारी ने डीजीपी को पत्र लिखा था।



बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट राज्य में भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार में शामिल है। बीएलटीएफ के पूर्व उग्रवादी नेता मोहिलारी ने 2003 में बोडो समझौते पर हस्ताक्षर के बाद राजनीति ज्वाइन की थी। हालांकि एनडीएफबी के उग्रवादियों ने समझौता का हिस्सा होने से इनकार किया था। उसने अपना हथियारबंद आंदोलन जारी रखा। हालांकि एनडीएफबी(पी) और एनडीएफबी(आर) संघर्ष विराम की घोषणा कर चुके हैं। पुलिस का कहना है कि पृथ्वीराज गिरफ्तारी बच रहे हैं। वहीं पृथ्वीराज ने सभी आरोपों को खारिज करते हुए कहा है कि कानून अपना काम करेगा।