Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

रेल सफर के लिए आएगा ऐप, बिना आधार कार्ड के अब नहीं बुक होगा ऑनलाइन रेल टिकट

Patrika news network Posted: 2017-03-03 10:54:41 IST Updated: 2017-03-03 10:54:41 IST
रेल सफर के लिए आएगा ऐप, बिना आधार कार्ड के अब नहीं बुक होगा ऑनलाइन रेल टिकट
  • रेल मंत्री सुरेश बी प्रभु ने गुरुवार को 2017-18 के लिए रेलवे के नए बिजनेस प्लान को पेश किया। इस योजना के मुताबिक आधार कार्ड आधारित टिकटिंग प्रणाली के साथ ही कैशलेस टिकटिंग प्रणाली में इजाफा करने के लिए देश भर में 6,000 PoS (प्वाइंट ऑफ सेल) मशीनें और 1,000 ऑटोमैटिक टिकट वेंडिंग मशीनें लगाई जाएंगी।

नई दिल्ली।

रेल मंत्री सुरेश बी प्रभु ने गुरुवार को 2017-18 के लिए रेलवे के नए बिजनेस प्लान को पेश किया। इस योजना के मुताबिक आधार कार्ड आधारित टिकटिंग प्रणाली के साथ ही कैशलेस टिकटिंग प्रणाली में इजाफा करने के लिए देश भर में 6,000 PoS (प्वाइंट ऑफ सेल) मशीनें और 1,000 ऑटोमैटिक टिकट वेंडिंग मशीनें लगाई जाएंगी।



इतना ही नहीं रेलवे द्वारा कैशलेस लेनदेन को बढ़ावा देने के लिए टिकटिंग का एक ऐप भी पेश किया जाएगा। रेलवे टिकट बुकिंग वेबसाइट के लिए एक सॉफ्टवेयर भी तैयार करवाया जा रहा है।



इस बाबत रेलवे के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, "IRCTC वेबसाइट पर वन टाइम रजिस्ट्रेशन के लिए आधार नंबर बहुत जरूरी होगा। इस कदम का उद्देश्य है कि फर्जी पहचान के साथ टिकटों की बुकिंग कराने वाले दलालों को रोका जा सके।"



रेलवे की नई योजना के अंतर्गत इस साल भारत-बांग्लादेश फ्रेट ट्रेन लॉन्च की जानी है। नए वित्त वर्ष में नए तरीके से डिलीवरी सिस्टम को अपग्रेड किया जाएगा और साात से ज्यादा हिमसागर ट्रेन लॉन्च की जाएंगी।



इसके साथ ही केंद्र सरकार आधार नंबर को लेकर ज्यादा ही आक्रामक तेवर अपना चुकी है और तकरीबन हर सेवा में इसे जरूरी बनाने की जुगत में भिड़ी है। अब ताजा मामला रेलवे टिकट बुकिंग का, जिसके लिए रेलवे ने ऑनलाइन टिकट बुकिंग के लिए आधार नंबर को अनिवार्य कर दिया है।



दरअसल रेलवे में टिकट बुकिंग के नाम पर काफी धोखाधड़ी और इकट्ठा टिकटों की बुकिंग होने की ढेरों खबरें आए दिन आती रहती हैं। रेलवे द्वारा नए नियम लगाए जाने के बावजूद पैसे कमाने के लिए दलाल नए-नए हथकंडे अपनाते रहते हैं।



लेकिन अब रेलवे ने इसका तोड़ निकाल लिया है और धोखाधड़ी रोकने के लिए आधार कार्ड के जरिये ई-टिकट बुकिंग की सुविधा देने वाला है। इस नई सुविधा के जुड़ने के बाद जिन लोगों के पास आधार संख्या नहीं है, वे ऑनलाइन टिकट बुकिंग नहीं करवा सकेंगे।



गौरतलब है कि इससे पहले रेलवे द्वारा वरिष्ठ नागरिकों को दी जाने वाली किराये में छूट के लिए आधार कार्ड को जरूरी कर दिया गया था। इसके बाद अब आगामी 1 अप्रैल 2017 से बिना आधार कार्ड वाले वरिष्ठ नागरिक किराये में छूट का लाभ नहीं उठा सकेंगे। हालांकि 31 मार्च 2016 तक रेलवे ने वरिष्ठ नागरिकों के लिए इस सुविधा को वैकल्पिक रखा हुआ है।



ऐप के जरिए जुड़ेंगी कई तरह की सर्विसेस

रेलवे से जुड़ी जानकारी, बस टिकट, ट्रैवल स्टोर, ट्रेन रनिंग स्टेटस, रेलवे से संबंधित न्यूज, शॉर्ट स्टे, होटल बुकिंग, ट्रेन का टाइम, पीएनआर स्टेटस, स्टेशनों के बीच चलने वाली ट्रेनों की डिटेल, ट्रेन रूट और गूगल मैप के जरिए लाइव स्टेटस, खाने की बुकिंग, आईआरसीटीसी के जरिए टिकट बुकिंग, रेल किराया, ट्रेन का लाइव स्टेटस, हेल्पलाइन नंबर, एसएमएस के जरिए सीट की अवेलेबिलिटी, कोच में सीट की पोजिशन जैसी सर्विसेस ऐप पर अवेलेबल रहेंगी।



6 हजार Pos मशीनें लगाई जाएंगी

नए प्लान के तहत देशभर में 6000 प्वाइंट ऑफ सेल्स (PoS) मशीनें लगाई जाएंगी। इसी के साथ 1000 ऑटोमैटिक टिकट वेंडिंग मशीनें भी लगाई जाएंगी। रेलवे की ओर से कहा गया है कि ऐप सर्विस शुरू होने के बाद टिकट के लिए लाइन कम होंगी, कागज की बचत होगी और डिजिटल पेमेंट को बढ़ावा मिलेगा।



सामान ले जाने पर डिस्काउंट ऑफर

रेलवे ने सामान की ढुलाई के मामले में कस्टमर्स को लुभाने के लिए डिस्काउंट ऑफर दिया है, क्योंकि पिछले साल इसमें गिरावट देखने को मिली। बिजनेस प्लान में रेलवे के ऑफर के तहत मिनिमम लोडिंग के लिए डिस्काउंट 1.5% से बढ़ाकर 35% किया गया है। यह 45 दिन में रिफंड होगा।



बता दें कि मोदी सरकार ने 92 साल की परंपरा तोड़ते हुए इस बार रेल बजट अलग से पेश नहीं किया। इसे आम बजट में ही शामिल किया गया। रेल मंत्री ने अब फाइनेंशियल ईयर 2018-18 के लिए 100 पेज का एक्शन प्लान पेश किया है। आमतौर पर पहले रेल बजट करीब 150 पेज का रहता था। इसीलिए इसे मिनी रेल बजट भी कहा जा रहा है।